ब्रिटेन को 30,000, जर्मनी को 10,000 वेंटिलेटर का आर्डर दिया, भारत में क्या तैयारी है वेंटिलेटर की

ब्रिटेन को 30,000, जर्मनी को 10,000 वेंटिलेटर का आर्डर दिया, भारत में क्या तैयारी है वेंटिलेटर की

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज़ों के इलाज में वेंटिलेटर का बहुत अहम रोल है। जब सांस लेने में तक़लीफ़ होती है तब वेंटिलेटर का ही सहारा होता है। पूरी दुनिया इस वक्त वेंटिलेटर के इंतज़ाम में लगी है। आप इंटरनेट में सिम्पल वेंटिलेटर टाइप कीजिए। यूरोप के कई देश वेंटिलेटर बनाने वाली कंपनियों को आर्डर […]

Read More
 कोरोना की इस आफत में हमारा प्राइवेट सेक्टर कहाँ है ?

कोरोना की इस आफत में हमारा प्राइवेट सेक्टर कहाँ है ?

टाटा स्टील का एक विज्ञापन पहले आता था, जिसमे एक भव्य स्कूल, शहर, हंसते खेलते बच्चे और स्वस्थ सुखी परिवार दिखता था और फिर अंत मे लिखा रहता था, हम स्टील भी बनाते हैं। इस विज्ञापन का अर्थ यह था कि भले ही हमारी कम्पनी स्टील बनाती हो पर हम उससे पहले समाज और अपने […]

Read More
 ईरान अमरीका विवाद और भारत

ईरान अमरीका विवाद और भारत

कुछ मित्र इसे भी एक उपलब्धि मान रहे हैं कि अमेरिका ईरान के विवाद में हमे किसी महत्वपूर्ण भूमिका के लिये पूछा जा रहा है। विशेषकर वे मित्र जो 2014 के बाद ही संबोधि को प्राप्त हुए हैं, उन्हें यह बात अधिक लगती है कि यह एक महान उपलब्धि है। जबकि हम दुनिया के विकासशील […]

Read More
 आजकल का राष्ट्रवाद, सेक्युलरवाद और हिंदुत्व

आजकल का राष्ट्रवाद, सेक्युलरवाद और हिंदुत्व

देश में जहाँ एक तरफ राष्ट्रवाद का सर्टिफिकेट बांटा जा रहा है तो दूसरी तरफ़ सेक्युलरवाद का, मेरी समझ में लगता है सर्टिफिकेट बांटने वालों ने आपस में गुप्त समझौता कर लिया है की राष्ट्रवाद का मतलब पूर्ण हिंदुत्व, और सेक्युलरवाद का मतलब मिक्स्ड हिंदुत्व है। आप यदि पूर्ण हिंदुत्व के समर्थक हैं तो आप […]

Read More
 नज़रिया – इंतज़ार कीजिये, भीड़ आपके दरवाज़े पर कब दस्तक देती है

नज़रिया – इंतज़ार कीजिये, भीड़ आपके दरवाज़े पर कब दस्तक देती है

इतिहास साक्षी है के प्रथम विश्व युद्ध के बाद यूरोप में अराजकता का चरम था. युद्ध के बाद अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो चुकी थी. युवा वर्ग बेरोज़गारी के कारण बदहवास था और वर्तमान सत्ता से निराश आम जनों का विश्वास लोकतंत्र पर कमज़ोर हो रहा था. विरोध के स्वर उठ रहे थे. प्रदर्शन हड़तालों की सिलसिला […]

Read More
 क्या पकिस्तान के नाम पर देश को बेवकूफ़ बना रही है मोदी सरकार ?

क्या पकिस्तान के नाम पर देश को बेवकूफ़ बना रही है मोदी सरकार ?

यकीन मानिये पाकिस्तान के प्रति हालिया युद्धोन्माद का एक कारण पुलवामा हमले के साथ साथ लोकसभा चुनाव 2019 भी है। चुनाव बाद जो भी सरकार आएगी वह पाकिस्तान से बातचीत करेगी ही। यह बातचीत पाकिस्तान के प्रति अनुराग या हृदय परिवर्तन का परिणाम नहीं होगा बल्कि यह अंतराष्ट्रीय कूटनीतिक समीकरण और दोनों देशों के नाभिकीय […]

Read More
 क्या आप जानते हैं, क्या है जिनेवा संधि ?

क्या आप जानते हैं, क्या है जिनेवा संधि ?

विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के बाद ही हर किसी की ज़ुबान पर जिनेवा कन्वेंशन ( geneva convention ) का ज़िक्र है. जब भारतीय पायलट अभिनंदन के लापता होने पर उनके पाकिस्तान में होने की ख़बर आई, तब ही से इस बात का ज़िक्र होने लगा था, कि विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान ज़्यादा दिनों […]

Read More
 वाह रे मीडिया, अभिनंदन को भारत तो आ जाने देते ….. !

वाह रे मीडिया, अभिनंदन को भारत तो आ जाने देते ….. !

भारतीय मीडिया निहायत ही बदमिज़ाज और सत्ता का चाटुकार है. पाकिस्तान ने अभिनंदन को छोड़ने का फैसला लिया तो हेडलाइंस लग रही हैं: ‘झुक गया पाकिस्तान’, ‘डर गया पाकिस्तान’. मीडिया को टीआरपी और सर्कुलेशन के लिए तनाव चाहिए. युद्ध जैसे हालात चाहिए. इसके दो फ़ायदे हैं. पहला, तथ्यों की परवाह नहीं रहती. कुछ भी बोलकर […]

Read More
 वायु सेना, सरकार के पराक्रम के बीच पत्रकारिता का पतन झाँक रहा है – रविश कुमार

वायु सेना, सरकार के पराक्रम के बीच पत्रकारिता का पतन झाँक रहा है – रविश कुमार

आज का दिन उस शब्द का है, जो भारतीय वायु सने के पाकिस्तान में घुसकर बम गिराने के बाद अस्तित्व में आया है। भारत के विदेश सचिव ने इसे अ-सैन्य कार्रवाई कहा है। अंग्रेज़ी में non-military कहा गया है। इस शब्द में कूटनीतिक कलाकारी है। बसों से लैस लड़ाकू विमान पाकिस्तान की सीमा में घुस […]

Read More
 मेजर मोहम्मद अली शाह का जैश ए मोहम्मद को खुला पत्र

मेजर मोहम्मद अली शाह का जैश ए मोहम्मद को खुला पत्र

19 फरवरी को मैंने सीआरपीएफ के एक पूर्व कमांडेंट हवा सिंह सांगवान का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा गया खुला पत्र  साझा किया था, आज एक और खुला पत्र साझा कर रहा हूँ, जो मेजर मोहम्मद अली शाह द्वारा लिखा गया है, और आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद को सम्बोधित है। मैं पत्र का हिंदी […]

Read More