उत्तर प्रदेश एटीएस ने बीएसएफ के एक सिपाही अच्युतानंद मिश्रा को पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के इल्ज़ाम में पकड़ा है. बीएसएफ जवान अच्युतानंद मिश्रा पर विदेशी खुफिया एजेंसी को गुप्त सूचनाएं देने का आरोप है. कहा जा रहा है कि बीएसएफ जवान सोशल मीडिया पर एक महिला द्वारा हनीट्रैप का शिकार हुआ. उसके बाद वह विदेशी एजेंसियों को सेना की खुफिया जानकारी देने लगा.

गिरफ्तार जवान अच्युतानंद मिश्रा जो कि मूल रूप से मध्यप्रदेश के रीवा ज़िले का रहने वाला है, पाकिस्तान के नंबर पर लगातार महिला से बात कर रहा था. मिस्र की महिला जासूस ने खुद को सेना की रिपोर्टर बताकर उसे फंसाया था.

यूपी एटीआईएस की तरफ से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई पिछले कुछ समय से फेसबुक पर लड़कियों की फेक आईडी बनाकर सेना और सशस्त्र बलों के कर्मियों को अपने जाल में फंसाकर जासूसी करवा रहा है. इसी प्रकार की एक फेक आईडी के बारे में चंड़ीगढ़ यूनिट की मिलिट्री इंटेलिजेंस ने यूपी एटीएस को एक इनपुट दिया. इसके बाद एटीएस द्वारा एफआईआर दर्ज कर जांच की गई. जांच में ऐसी कई भारतीय फेसबुक आईडी चिन्हित हुई, जिसके जरिए सेना व सशस्त्र बलों के कर्मियों से निरंतर संपर्क स्‍थापति किया जाता था. जब और गहराई से छानबीन की गई तो बीएसएफ का कांस्टेबल अच्युतानंद मिश्रा निगाह में आया.

इसके बाद एटीएस और बीएसएफ के अधिकारियों ने उससे 17 और 18 सितम्बर को नोएडा में पूछताछ की. उसका डाटा डाउनलोड और एक्सट्रेक्ट किया गया तो पता चला कि उसने ऑफिसियल सीक्रेट्स एक्ट के तहत अपराध किया है.

पूछताछ में मिश्रा ने गोपनीय सूचना शेयर करने की बात स्वीकार कर ली है. उसने बताया कि जनवरी 2016 में उसकी फेसबुक पर मित्रता मिस्र की महिला से हुई थी. शुरुआत में रसीली बातें हुईं, फिर मिश्रा ने गोपनीय सूचनाएं मसलन यूनिट लोकेशन, शस्त्र गोला-बारूद का विवरण, बीएसएफ परिसर के चित्र और वीडियो देने शुरू किए.

डीजीपी ने बताया कि एटीएस बात में जुटी है कि कहीं इसके लिए पैसों का लेनदेन तो नहीं हुआ. साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि कहीं और जवान भी इस महिला के शिकार तो नहीं हुए हैं.

मिश्र की चैट से पता चलता है कि उसे धर्म परिवर्तन और कश्मीर पर भारत विरोधी बातें कह कर प्रभावित किया जा रहा था. मिश्र इसी नंबर पर सभी सूचनाएं साझा करता था. सुरक्षा बल मिश्र को बुधवार को लखनऊ की अदालत में पेश कर उसकी रिमांड की मांग करेंगे.