क्या अब जनहित याचिकाओं को कमज़ोर किया जायेगा ?

क्या अब जनहित याचिकाओं को कमज़ोर किया जायेगा ?

अर्णब गोस्वामी के केस के माध्यम से निजी आज़ादी की मुखरता से बात करने वाली सुप्रीम कोर्ट अब संविधान के अनुच्छेद 32 के अंतर्गत दायर होने वाली याचिकाओं से लगता है असहज महसूस होने लगी है। सीजेआई एसए बोबडे ने कहा है कि वे अब अनुच्छेद 32 के अंतर्गत दायर याचिकाओं को हतोत्साहित करने की […]

Read More
 ‘ जब तोप मुकाबिल हो, अखबार निकालो ! ‘ – अकबर इलाहाबादी

‘ जब तोप मुकाबिल हो, अखबार निकालो ! ‘ – अकबर इलाहाबादी

अकबर इलाहाबादी का यह बहुत प्रसिद्ध कलाम है । अकबर इलाहाबादी का पूरा नाम सैयद अकबर हुसैन था और वे इलाहाबाद के पास बारा के रहने वाले थे । उनका जन्म 16 नवम्बर 1846 को एक प्रतिष्ठित परिवार में और देहांत 9 सितम्बर 1921 को इलाहाबाद में हुआ था । अकबर ने अपनी प्राथमिक शिक्षा […]

Read More
 अर्णब प्रकरण, कुणाल कामरा के ट्वीट और सुप्रीम कोर्ट की साख

अर्णब प्रकरण, कुणाल कामरा के ट्वीट और सुप्रीम कोर्ट की साख

अटॉर्नी जनरल की संस्तुति के बाद अगर सुप्रीम कोर्ट में, कुणाल कामरा पर मानहानि का मुकदमा चलता है तो, यह इस साल की दूसरी बड़ी मानहानि की कार्यवाही होगी जो देश की लीगल हिस्ट्री में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखेगी। पहली प्रशांत भूषण का मुकदमा था और दूसरा कुणाल का होगा। कुणाल न तो कोई एडवोकेट […]

Read More
 “हम सब अपने अपने परसेप्शन खुद ही गढ़ते हैं”, राहुल पर ओबामा की टिप्पणी पर एक प्रतिक्रिया

“हम सब अपने अपने परसेप्शन खुद ही गढ़ते हैं”, राहुल पर ओबामा की टिप्पणी पर एक प्रतिक्रिया

हमारी समस्या एक यह भी है कि, हम यह चाहते है कि किसी व्यक्ति, विचार या घटना के बारे में जो मेरा परसेप्शन हो, वही हर व्यक्ति का भी हो। हम यह भूल जाते हैं कि, हर व्यक्ति किसी भी घटना, व्यक्ति और विचार के बारे मे अलग अलग तरह से सोचता है और उन […]

Read More
 व्यक्तिगत स्वतंत्रता और वरवर राव का मुकदमा

व्यक्तिगत स्वतंत्रता और वरवर राव का मुकदमा

आज जब अर्णब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट ने संविधान के अनुच्छेद 142 के अंतर्गत प्राप्त अपने अधिकारों का उपयोग करते हुए, जमानत दी तो एक पुराना मामला याद आया। यह मामला है तेलुगू के कवि और मानवाधिकार कार्यकर्ता वरवर राव का। वरवर राव भी अपने मुक़दमे में जमानत के लिये सुप्रीम कोर्ट गए थे, और […]

Read More
 नज़रिया – अभिव्यक्ति की आज़ादी और अर्नब गोस्वामी केस ?

नज़रिया – अभिव्यक्ति की आज़ादी और अर्नब गोस्वामी केस ?

अर्नब गोस्वामी के मामले में ताजी खबर यह है कि 9 नवंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत की उनकी अर्जी खारिज कर दी है, और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अपील की जिसकी आज 11 नवम्बर को सुनवाई हुयी। सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी और एक अन्य सह अभियुक्त को अंतरिम जमानत पर रिहा करने […]

Read More
 नोटबन्दी – एक मास्टरस्ट्रोक जो बाउंड्री पर कैच हो गया

नोटबन्दी – एक मास्टरस्ट्रोक जो बाउंड्री पर कैच हो गया

नोटबन्दी या विमुद्रीकरण का फैसला कैबिनेट का था या किचेन कैबिनेट का यह न तब पता लग पाया और न ही कोई आज बताने जा रहा है। जब कभी कोई किताब लिखी जायेगी या इस मास्टरस्ट्रोक से जुड़ा कोई नौकरशाह मुखर होगा और अपने महंगे संस्मरण की किताब अंग्रेजी में लिखेगा तो, हो सकता है, […]

Read More
 अन्वय नाइक का डूबा धन कैसे उनके परिवार को मिलेगा ?

अन्वय नाइक का डूबा धन कैसे उनके परिवार को मिलेगा ?

भाजपा अर्नब गोस्वामी के साथ आज खुल कर आ गयी है। गृहमंत्री सहित कई मंत्री खुल कर अर्नब के पक्ष में बयान दे रहे है। अर्नब और भाजपा में जो वैचारिक एकता है, उसे देखते हुए भाजपा के इस रवैये पर किसी को आश्चर्य नही होना चाहिए। अर्नब की पत्रकारिता सरकार और सत्तारूढ़ दल की […]

Read More
 पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री का बयान, युद्ध की धमकी के बाद रिहा किये गए थे अभिनंदन

पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री का बयान, युद्ध की धमकी के बाद रिहा किये गए थे अभिनंदन

पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ द्वारा यह खुलासा करना कि, विंग कमांडर अभिनंदन को, भारत द्वारा युद्ध की धमकी दिए जाने के बाद छोड़ा गया था और इससे पाकिस्तान डर गया था, यह कितना सच है यह तो दोनो ही देशों के कूटनीति के विशेषज्ञ ही बता पाएंगे, पर यह सच है […]

Read More
 बदहाल स्वास्थ्य सेवाएं – क्या हम सच मे एक लोककल्याणकारी राज्य हैं ?

बदहाल स्वास्थ्य सेवाएं – क्या हम सच मे एक लोककल्याणकारी राज्य हैं ?

हमारा संविधान हमे एक लोककल्याणकारी राज्य का दर्जा देता है। लोककल्याणकारी राज्य का अर्थ समाज के हर तबके को उसकी मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति और उसके सम्यक विकास हेतु शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजी, रोटी, आवास की सुविधा प्रदान करना और एक ऐसे समाज तथा परिवेश का निर्माण करना, जो न केवल विचारों से प्रगतिशील हो बल्कि […]

Read More