October 30, 2020

तू अपनी जान पे तलवार बन के बैठा है
अमीर हो के भी नादार बन के बैठा है
मेरी अना ने ही मगरूर कर दिया मुझको
मेरा वजूद ही दीवार बन के बैठा है
मैं तेरे शह्र में अनजान बन के रहता हूँ
न जाने कौन है ? दिलदार बन के बैठा है
मैं तेज धूप में सर को छुपाने आया था
यहाँ तो शम्स ही दीवार बन के बैठा है
चमन में तितलियाँ आएं तो किसलिए आएं
यहाँ तो माली ही पुर खार बन के बैठा है
“ख़ान”अशफाक़ ख़ान

Avatar
About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *