October 27, 2020

NDTV के पत्रकार रविश कुमार ने अपने फ़ेसबुक पेज पर एक पोस्ट करते हुए, वर्तमान राजनीति की ख़स्ता हालत पर एक पोस्ट की है. उन्होंने भाजपा के हर प्रोग्राम को इवेंट बनाने और भ्रष्ट सुखराम और राजनीति में धर्म के नाम का उपयोग करने पर हमला बोलते हुए भाजपा और अन्य पार्टियों को कटघरे में खड़ा किया है.

देखें क्या लिखा है, रविश कुमार ने –

21 वीं सदी के भारत की कल्पना का सारा ईंवेंट मैनेजमेंट हवा में उड़ गया है। उस पर सवाल होने लगे हैं। प्रमाण माँगे जा रहे हैं। नारे हारे-हारे लग रहे हैं। पुराने नारों का ही बैकलॉग इतना हो गया है कि नए नारे मिल नहीं रहे हैं। सौभाग्य-दुर्भाग्य, नसीब-बदनसीब जैसे विपरीतार्थक निरर्थक हो चुके हैं। इसलिए जनता की निगाहों को शिफ्ट किया जा रहा है। जनता दायें ताकती है तो उसे बायें तकाने के जुगाड़ किए जा रहे हैं। शहर में गंदगी है मगर स्वच्छता का ईवेंट है। करोड़ों की बेरोज़गारी है मगर स्किल इंडिया का ईवेंट है। हर समस्या के समानांंतर एक ईवेट की रेखा है।

त्रेतायुग के ईवेंट का आयोजन शानदार था। आयोजन पर आप सवाल नहीं कर सकते हैं और न ही प्रमाण मांग सकते हैं। आयोजकों को पता है कि भगवान राम के नाम पर राजनीति को वॉकओवर मिल जाता है। हिमाचल में सुखराम आ रहे हैं, अयोध्या में श्री राम आ रहे हैं।आयोजन ही प्रयोजन है। ईवेंट ही डेवलपमेंट है। गर्वनमेंट अपने आप में एक ईवेंट है।
जो काम मेले वाले ख़ुद कर लेते हैं, शहर की आयोजन समितियां कर लेती हैं, अब वही काम सरकारें भी करने लगी हैं। इस देश में एक से एक रामलीलाएं होती हैं। यह एक पैटर्न की तरह हो रहा है। अप्रैल में सूरत और जून में राजकोट में ख़ास रास्ते और चौराहों को प्रधानमंत्री के रोड शो के लिए सजाया गया। शहर को ही वर्चुअल रियालिटी का हिस्सा बना दिया गया। सूरत और राजकोट को सजाने वाली कंपनियों का अयोध्या में कोई रोल था या नहीं?
यह परंपरा की पुनर्रचना नहीं है। यह फ़ेल होती राजनीतिक व्यवस्था को परंपराओं के वर्चुअल ईंवेंट से ढंक देने की विलासिता है। पहले शहर में सर्कस आता था तो लेज़र लाइट दूर दूर के मोहल्ले की छतों पर दौड़ती थी। उन्हें देख कर लोग सर्कस की तरफ भागते थे। सनसनी मच जाती थी। मैंने जून महीने में ब्लाग पर लिखा था कि 2019 की राजनीति में लेज़र सेट का बड़ा रोल होने वाला है। यह प्रचार का नया हथियार है जिसे सूरत, राजकोट और अयोध्या में आज़माया गया है। लोग चुनाव के समय सवाल नहीं करेंगे, मेला देखेंगे।
धर्म राजनीति का कवच है। इस कवच को उतारकर राजनीति मैदान में नहीं जा सकती है। जाएगी तो लोगों के सवालों से घिर जाएगी। धर्म का कवच पहन कर जाएगी तो लोग सवा नहीं करेंगे, पूजा करेंगे। साधु संत तो अब दिखते भी नहीं हैं। उनके रोल में अब नेता ही दिख रहे हैं। जब नेता ही आध्यात्म से लेकर पूजन तक कर रहे हैं तो संत लोग क्या कर रहे हैं।
राजनीति में जब पैसे का अतिरेक हुआ तो काला धन पैदा हुआ। अब राजनीति में धर्म का अतिरेक काला धर्म पैदा कर रहा है। काला धन की लड़ाई हार चुके हैं। काला धर्म की लड़ाई भी हारेंगे। बाकी आप समझदार हैं, नहीं भी हैं तो क्या ग़म है। एक तरफ सुखराम की जय बोलो, एक तरफ जय श्री राम बोलो। जीत तय है, बस इससे मतलब रखो।
Avatar
About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *