कैसा फ्लोर टेस्ट ? पहले बंधक विधायकों को स्वतंत्र तो करिए, उन्हें भोपाल तो लाइए – कमलनाथ

कैसा फ्लोर टेस्ट ? पहले बंधक विधायकों को स्वतंत्र तो करिए, उन्हें भोपाल तो लाइए – कमलनाथ

भोपाल : 15 मार्च , 2020 – मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि भाजपा द्वारा अनैतिक और असंवैधानिक रूप से पैदा किए गए संकट के इस दौर में जीत हमारी होगी, हर हाल में होगी, हम सब एकजुट है। लोकतंत्र की रक्षा और प्रजातंत्रिक मूल्यों के लिए हमारा मनोबल शीर्ष पर है। सीएम कमलनाथ […]

Read More
 मनोहर लाल खट्टर के पास नही है नागरिकता के दस्तावेज़.

मनोहर लाल खट्टर के पास नही है नागरिकता के दस्तावेज़.

न्यूज़ डेस्क – सूचना के अधिकार के तहत मांगी गयी जानकारी से ये पता चला है कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की नागरिकता का कोई भी दस्तावेज़ हरियाणा सरकार के पास नहीं है,राज्य सरकार के कई कैबिनेट मंत्रियों और राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य से जुड़े दस्तावेज़ भी उनके पास नहीं हैं , 20 […]

Read More
 क्या दिल्ली में जो कुछ हुआ, वो किसी नफ़रती प्रोजेक्ट का हिस्सा है ?

क्या दिल्ली में जो कुछ हुआ, वो किसी नफ़रती प्रोजेक्ट का हिस्सा है ?

यह ना संयोग है ना प्रयोग बल्कि एक प्रोजेक्ट है जिसे बहुत तेजी से पूरा किया जा रहा है। भारत को ‘हम’ और ‘वे’ में बांट देने का प्रोजेक्ट, जिसके लिये कई दशकों से प्रयास किया जा रहा था। दिमागों में पैदा किये गये विभाजन और हिंसा अब जमीन पर दिखाई पड़ने लगी है। जिसके […]

Read More
 दिल्ली – ईवीएम से गिनती में वोटों का अंतर क्यों आया?

दिल्ली – ईवीएम से गिनती में वोटों का अंतर क्यों आया?

ईवीएम से शिकायतें कम नहीं हो रही हैं। चुनाव आयोग ने ईवीएम हैक कर दिखाने की जो चुनौती दी थी उसकी शर्तें ऐसी नहीं थीं कि कोई यह सब करने जाए। इसके अलावा, चुनाव आयोग का पिछला रिकार्ड भी ऐसा नहीं है कि उसपर भरोसा किया जाए। इसलिए उस चुनौती या मौके को मैं पूरा […]

Read More
 भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पूर्व कार्यालय में तोड़ फोड़ निंदनीय है

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पूर्व कार्यालय में तोड़ फोड़ निंदनीय है

पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर जी आज महत्वपूर्ण हो या न हो पर उनकी हैसियत आज के फर्जी डिग्री और हलफनामा देने वाले आधुनिक अवतारों से कहीं बहुत अधिक थी। वे भले ही मात्र चार महीने ही देश के प्रधानमंत्री रहे हों, पर उनकी व्यक्तिगत हैसियत देश के अग्रिम पंक्ति के नेताओं में प्रमुख थी। 1977 में […]

Read More
 नज़रिया – दिल्ली में धर्म आधारित उन्मादित राष्ट्रवाद की हार हुई है

नज़रिया – दिल्ली में धर्म आधारित उन्मादित राष्ट्रवाद की हार हुई है

दिल्ली विधानसभा 2020 के चुनाव खत्म हो गये और जैसी उम्मीद की जा रही थी, अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी ने शानदार सफलता अर्जित की। यह चुनाव भाजपा के लिये प्रतिष्ठा का प्रश्न था। कई राज्यों के मुख्यमंत्री, ढेर सारे सांसदों और अनेक मंत्रियों ने प्रत्यक्ष रूप से चुनाव प्रचार में भाग […]

Read More
 किसानों की समस्याओं पर योगी सरकार को घेरने कांग्रेस का मेगा प्लान तैयार

किसानों की समस्याओं पर योगी सरकार को घेरने कांग्रेस का मेगा प्लान तैयार

कांग्रेसी कार्यकर्ता किसान मांग पत्र लेकर डेढ़ करोड़ किसानों से करेंगे जनसंपर्क उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने पूरे सूबे में किसानों के मुद्दे पर आंदोलन की तैयारी कर ली है। योगी सरकार को घेरने के मंसूबे के साथ पूरे सूबे में भाजपा सरकार की नीतिओं से नाराज़ किसानों के बीच में कांग्रेस कार्यकर्ता जाकर उनको […]

Read More
 क्या CAA पर असम के मुख्यमंत्री ने भाजपा से बगावत कर दी है ?

क्या CAA पर असम के मुख्यमंत्री ने भाजपा से बगावत कर दी है ?

तो क्या असम के मुख्यमंत्री ने नागरिकता संशोधन क़ानून से बग़ावत कर दी है? सोनेवाल ने कहा है कि इस क़ानून के चलते कोई भी विदेशी असम की धरती पर नहीं आ सकता। असम पुत्र होने के नाते कभी किसी विदेशी को यहाँ बसने नहीं दूँगा। सोनेवाल कभी ऐसा नहीं होने देगा। सोनेवाल का यह […]

Read More
 योगीराज में पुलिसिया कार्यवाही से खौफ मे हैं पश्चिम बंगाल के मज़दूर

योगीराज में पुलिसिया कार्यवाही से खौफ मे हैं पश्चिम बंगाल के मज़दूर

CAA-NRC के खिलाफ देशव्यापी कॉल में 19 दिसंबर को लखनऊ में राज्य द्वारा प्रायोजित हिंसा के बाद पुलिसिया दमन पूरे उत्तर प्रदेश मे देखने को मिला, हिंसा के उपरांत योगी सरकार की जेम्स बांड पुलिस इसे कश्मीरी व बंगलादेशी एंगल देने में जुट गयी। जिसका नतीजा यह निकला कि 300 के आस पास राज्य के […]

Read More
 नज़रिया – डरी हुयी सरकार

नज़रिया – डरी हुयी सरकार

पाकिस्तान, भारत और बांग्लादेश, एक ही वतन और एक ही बदन के दो हिस्से थे, अब तीन हैं। 1947 का बंटवारा, एक बहुत बड़ी ऐतिहासिक भूल, राजनीतिक महत्वाकांक्षा, पागलपन भरे दौर, और अंग्रेजों की साज़िश का दुष्परिणाम था। यह बंटवारा मुझे फ़र्ज़ी, अतार्किक और बनावटी लगता है। लेकिन इधर कुछ बड़ी सकारात्मक चीज़े हुयी हैं। […]

Read More