लगता है जैसे किसानों को लेकर सरकार का रवैया अब बदलने वाला नहीं है. भारतीय जनता पार्टी की राज्य और केंद्र की सरकार ये मानकर बैठी है, कि कुछ भी हो जाये जनता हिंदुत्व के नाम पर उन्हें ही वोट देगी. इसी बीच किसानों की मृत्यु की खबरें देश के अलग-अलग हिस्सों से आ रही हैं.

फ़िलहाल मध्यप्रदेश में किसानों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. ताज़ा मामला सिवनी ज़िले की कुरई तहसील के ग्राम सिन्दरिया का है. जहां के किसान सोहन लाल अहिरवार की मृत्यु सरकारी लापरवाही की वजह से हुई है.

पूरे मामले की जानकारी सिवनी ज़िला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष व कांग्रेस नेता मोहन सिंह चंदेल ने अपनी फ़ेसबुक वाल प्र दी है.

कांग्रेस नेता मोहन सिंह चंदेल लिखते हैं

ग्राम सिदरिया विकासखंड कुरई के निवासी स्वर्गीय सोहन लाल अहिरवार जिन्होंने अपने चने की फसल बेचने के लिए कृषि उपज मंडी सिवनी लेकर आए थे परंतु नियमों का हवाला देकर उनका चना नहीं खरीदा गया साथ ही तपती दोपहरी में खुद ही उन्हें हमाली भी करना पडा और तो और उन्हें ठंडा पानी भी नसीब नहीं हो पाया.

इन्हीं सब अव्यवस्थाओं के बीच भाई सोहनलाल अहिरवार जी का कल निधन हो गया कल शाम 4:00 बजे उनके गृह ग्राम सुंदरियां में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया अंतिम संस्कार में उपस्थित ग्रामवासियों एवं किसान भाइयों ने इस तरह से सोहन लाल जी की मौत पर आक्रोश व्यक्त किया है एवं सभी किसान भाइयों की मांग है कि सोहन लाल जी की मौत पर सरकार उनके परिवार को मुआवजा दे एवं दोषी अधिकारियों पर कार्यवाही करें कल उक्त मांग को लेकर कलेक्टर सिवनी से भेंट करूंगा।