पंजाब के 400 से ज़्यादा किसान और युवा आंदोलनकारी लापता

पंजाब के 400 से ज़्यादा किसान और युवा आंदोलनकारी लापता

किसान परेड के दौरान 26 जनवरी को लाल किला और दिल्ली के विभिन्न इलाकों में हिंसा के दौरान किसानों के लापता होने का मामला पंजाब में सियासी तौर पर गरमाने लगा है। सूबे के किसान संगठनों और धार्मिक संगठनों ने 400 से अधिक किसानों व नौजवानों के लापता होने का आरोप लगाया है और इस […]

Read More
 8 दिसंबर के भारत बंद के बाद किसान आंदोलन में क्या क्या हुआ ?

8 दिसंबर के भारत बंद के बाद किसान आंदोलन में क्या क्या हुआ ?

8 दिसंबर, को किसानों ने अपनी मांगों के समर्थन में भारत बंद का आह्वान किया था। बंद सफल रहा । सबसे उल्लेखनीय यह बात थी कि, इस बंद में देश मे कहीं से भी हिंसा के समाचार नहीं मिले। लंबे समय के बाद, देश मे जनहित के मुद्दे पर जनता जागरूक दिखी और उसने अपने […]

Read More
 किसानों के मन की बात भी तो सुनिये, सरकार ?

किसानों के मन की बात भी तो सुनिये, सरकार ?

यूं ही हमेशा उलझती रही है, ज़ुल्म से खल्क, न उनकी रस्म नयी है, न अपनी रीत नयी, यू ही हमेशा, खिलाये हैं हमने आग में फूल, न उनकी हार नयी है, न अपनी जीत नयी ! मशहूर शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ साहब की यह कालजयी पंक्तियां, आज भी प्रासंगिक हैं और कभी भी कालबाधित […]

Read More
 किसानों का यह आंदोलन क्या बदलाव की एक नयी इबारत लिख पायेगा ?

किसानों का यह आंदोलन क्या बदलाव की एक नयी इबारत लिख पायेगा ?

2014 में भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के प्रबल झंझावात के बल पर भाजपा/ एनडीए की सरकार बनी थी। उम्मीदे भी थी, और गुजरात मॉडल का मायाजाल भी। नरेंद्र मोदी की क्षमता पर ज़रूरत से ज्यादा लोगों को भरोसा भी था। कांग्रेस का दस वर्षीय कार्यकाल खत्म हो रहा था। सबसे अधिक उम्मीद थी कि 2014 में […]

Read More
 कृषि क्षेत्र में खुला बाज़ार प्रणाली यूरोप और अमेरिका में पहले ही फेल हो चुकी है

कृषि क्षेत्र में खुला बाज़ार प्रणाली यूरोप और अमेरिका में पहले ही फेल हो चुकी है

( यह लेख मूल रूप से कृषि विशेषज्ञ देविंदर शर्मा जी ने हिंदुस्तान अखबार के लिए लिखा था, विजयशंकर सिंह जी उस लेख के ही कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को छाँटकर संपादित किया है, साभार – हिंदुस्तान ) अमेरिका के एक किसान ने 2018 में मक्का जिस कीमत पर बेचा, मक्के की उससे ज्यादा कीमत उसके […]

Read More
 चुनावों में गायब हो रहे हैं जीवन से जुड़े मुद्दे

चुनावों में गायब हो रहे हैं जीवन से जुड़े मुद्दे

किसी भी देश मे चुनाव जनमत का अक़्स होता है। यह जनता की राय नहीं होती है यह केवल जनता का इतना मत होता है कि वह अमुक दल या व्यक्ति को चाहती है या अमुक व्यक्ति या दल को नहीं चाहती है। जिस विंदु पर जनता की राय ली जाती है, वह प्रक्रिया जनमतसंग्रह […]

Read More
 किसानों को उल्लू बनाने के लिए बहुत ज़रूरी हैं राष्ट्रवाद के नारे – रविश कुमार

किसानों को उल्लू बनाने के लिए बहुत ज़रूरी हैं राष्ट्रवाद के नारे – रविश कुमार

ग्रामीण इलाके में न सिर्फ खेती से आय घटी है बल्कि खेती से जुड़े काम करने वालों की मज़दूरी भी घटी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी इस असफलता को आतंकवाद और राष्ट्रवाद के जोशीले नारों से ढंकने की कोशिश में हैं मगर पांच साल में उस जगह को बर्बाद किया है जहां से किसान आता […]

Read More
 वरुण गांधी ने कहा – किसानों को नहीं मिल रहा योजनाओं का लाभ

वरुण गांधी ने कहा – किसानों को नहीं मिल रहा योजनाओं का लाभ

एक के बाद एक अपनी ही पार्टी के नेताओं के बगावती तेवर से परेशान भाजपा के लिये एक और परेशानी बढ़ाने वाली खबर सामने आई है. ख़बरों के मुताबिक़ नई दिल्ली में इंडिया डायलॉग कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरुण गांधी ने मोदी सरकार को किसानों के मुद्दों पर घेरा है. वरुण गांधी ने इण्डिया […]

Read More
 कर्ज़माफ़ी भीख नहीं किसानों का हक़ है

कर्ज़माफ़ी भीख नहीं किसानों का हक़ है

मिडिल क्लास को बड़ा गुरूर है टैक्स देने का. चले तो आख़िरी चवन्नी बचाने लेने वाला यह क्लास किसानों की कर्ज़माफ़ी को लेकर बहुत उछल रहा है मानो उसकी तनख्वाह से पैसा काट के दिया गया है. उसे लगता है देश उसी के पैसे से चलता है तो दुनिया की सारी सुविधा उसी को मिलनी […]

Read More
 देश के 17 राज्यों के 25000 भूमिहीन क्यों चल रहे हैं पैदल ?

देश के 17 राज्यों के 25000 भूमिहीन क्यों चल रहे हैं पैदल ?

भारत की आज़ादी की लड़ाई में ज़मीन हमेशा एक बड़ा मुद्दा रहा। संथाल विद्रोह, बारडोली से लेकर चंपारण सत्याग्रह तक हर संघर्ष में ज़मीन एक केंद्रीय मुद्दा बना रहा। अंग्रेजों ने रजवाड़ों और ज़मींदारों को भारतीयों के शोषण का माध्यम बना रखा था, क्योंकि भारतीय अधिकतर किसान थे इसीलिए भूमि पर उनके अधिकार छीनकर उन्हें आराम से […]

Read More