लगता है कांग्रेस के नेताओं का दिमाग़ साथ नहीं दे रहा। या ज़्यादा तेज़ दौड़ रहा है। कल कांग्रेस के एक यशप्रार्थी मित्र ने बताया कि जल्द राहुल गांधी को लेकर जयपुर जा रहे हैं। लगता है वहाँ कांग्रेस का हिंदूकरण होगा। इसके लिए उदार हिंदू संतों की खोज शुरू हो चुकी है।
कांग्रेस के हिंदूकरण यह विचार कोपुल्ला राजू का है। वे राहुल गांधी के घर में रहते हैं। उन्हें राहुल का अहमद पटेल भी कहा जाता है। जल्द शायद चाणक्य भी कहे जाएँ। उन्होंने जयपुर सम्मेलन के लिए तिथियाँ गांधी जयंती के गिर्द चुनीं हैं। क्योंकि गांधीजी हिंदू धर्म की बहुत बात करते थे।
गांधीजी की किताब है – हिंदू धर्म क्या है? कांग्रेस के शशि थरूर ने भी किताब लिख दी है – मैं क्यों हिंदू हूँ? और मानो समूची राहुल की कांग्रेस (कथित) संतों वाले हिंदू धर्म में अपना पुनरुद्धार खोजने में लग गई है।
कांग्रेस भूल रही है कि धर्मनिरपेक्षता उसकी पहचान रही है। गांधीजी के हिंदू होने में सर्वधर्म समभाव प्रबल था। कांग्रेस की बाद की कथित धर्मनिरपेक्षता ने बृहत्तर हिंदू समाज को भुला दिया। उसे भाजपा ले उड़ी। मगर अब हिंदू समाज से वापस जुड़ने के लिए कांग्रेस को भाजपा वाला संत-संता वाला फ़ार्मूला कितना काम देगा? कहीं लेने के देने न पड़ जाएँ।

नोट – यह लेख वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी जी की  फ़ेसबुक वाल से लिया गया है
About Author

Om thanvi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *