हम एक अवैज्ञानिक और अनाड़ी भारत बना रहे हैं

हम एक अवैज्ञानिक और अनाड़ी भारत बना रहे हैं

बम फोड़कर भारतवासियों की जान लेने के मुक़दमे, जेल और ज़मानत भूल जाइए, जाँबाज़ शहीद अधिकारी को श्राप से मार डालने का दावा भी भुला दीजिए। लेकिन भोपाल की कथित साध्वी गाय पर हाथ फेर कर बीपी घटाने का टोटका प्रचारित कर रही हैं? तीन बार ऑपरेशन से बचने वाली मरीज़ गोमूत्र को कैंसर का […]

Read More
 राजद्रोह और राष्ट्रद्रोह (या देशद्रोह) एक चीज़ नहीं हैं

राजद्रोह और राष्ट्रद्रोह (या देशद्रोह) एक चीज़ नहीं हैं

राजद्रोह और राष्ट्रद्रोह (या देशद्रोह) एक चीज़ नहीं हैं। दोनों में ज़मीन-आसमान का फ़ासला है। फिर भी मीडिया का एक हिस्सा राजद्रोह के आरोपियों को देशद्रोही कहता है। यह शासन और उसकी विचारधारा की चापलूसी है। कन्हैया कुमार आदि (तत्कालीन) छात्रों पर राजद्रोह (धारा 124-ए) का मुक़दमा है। आजीवन क़ैद की सज़ा के प्रावधान वाला […]

Read More
 व्यक्तित्व –  कुलदीप नैय्यर का जाना, एक क़द का उठ जाना

व्यक्तित्व – कुलदीप नैय्यर का जाना, एक क़द का उठ जाना

कुलदीप नैयर का जाना पत्रकारिता में सन्नाटे की ख़बर है। छापे की दुनिया में वे सदा मुखर आवाज़ रहे। इमरजेंसी में उन्हें इंदिरा गांधी ने बिना मुक़दमे के ही धर लिया था। श्रीमती गांधी के कार्यालय में अधिकारी रहे बिशन टंडन ने अपनी डायरी में लिखा है उन दिनों किसी के लिए यह साहस जुटा […]

Read More
 नज़रिया – एक चुनी हुई सरकार को LG द्वारा कार्य न करने देना कहाँ तक सही है?

नज़रिया – एक चुनी हुई सरकार को LG द्वारा कार्य न करने देना कहाँ तक सही है?

दिल्ली के एलजी तो बड़े फ़रज़ी निकले। वे नौकरशाही के मुखिया हैं और उसे शह दे रहे हैं कि सरकार को सहयोग न करें? तीन महीने हो गए, अफ़सर सौंपे गए काम नहीं कर रहे, बुलाने पर आते नहीं, फ़ोन भी सुनने से इनकार कर देते हैं। अगर सरकार पंगु होकर रह गई है तो […]

Read More
 कठुआ और उन्नाव का गुस्सा, राहुल गांधी के बुलावे पर आधी रात को इण्डिया गेट पर जुटी भीड़

कठुआ और उन्नाव का गुस्सा, राहुल गांधी के बुलावे पर आधी रात को इण्डिया गेट पर जुटी भीड़

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का दिल्ली की मुख्य सड़क राजपथ पर उतर कर ज्योति-जुलूस निकालने का आइडिया नायाब कहा जाएगा। देश अंधेरे की चपेट में है, इस संदेश के संचार के लिए आधी रात और इंडिया गेट से बेहतर प्रतीक क्या हो सकते थे? हालाँकि सुरक्षा के लिहाज़ से यह निश्चय ही ख़तरनाक क़दम था। […]

Read More
 न नागरिक की इज़्ज़त का ख़याल, न अपनी सरकार का, न पार्टी का

न नागरिक की इज़्ज़त का ख़याल, न अपनी सरकार का, न पार्टी का

कमाल के योगी हैं। न नागरिक की इज़्ज़त का ख़याल, न अपनी सरकार का, न पार्टी का – और तो और गेरुआ बाने का भी नहीं। विधायक आया और शान में चौड़ा होता लौट गया। कहता है, सरेंडर किसलिए। मैं तो आरोपी ही नहीं हूँ। पीड़िता के मुख से आरोप सारी दुनिया सुन चुकी। बाप […]

Read More
 राहुल गांधी की कांग्रेस हिंदुत्व में खोज रही है अपना पुनरुद्धार

राहुल गांधी की कांग्रेस हिंदुत्व में खोज रही है अपना पुनरुद्धार

लगता है कांग्रेस के नेताओं का दिमाग़ साथ नहीं दे रहा। या ज़्यादा तेज़ दौड़ रहा है। कल कांग्रेस के एक यशप्रार्थी मित्र ने बताया कि जल्द राहुल गांधी को लेकर जयपुर जा रहे हैं। लगता है वहाँ कांग्रेस का हिंदूकरण होगा। इसके लिए उदार हिंदू संतों की खोज शुरू हो चुकी है। कांग्रेस के […]

Read More
 महज़ चुनाव जीतने के लिए नफ़रत की बात करना अशोभनीय है

महज़ चुनाव जीतने के लिए नफ़रत की बात करना अशोभनीय है

वाह रे रिपब्लिक टीवी! पाकिस्तान का प्रतिनिधिमंडल चुनाव के दौरान कांग्रेस नेताओं से क्यों मिला, पाक में तैनात रहे मणिशंकर अय्यर के घर क्यों मिला, अय्यर ने इस मुलाक़ात के बाद नीच आदमी वाला जुमला क्यों कसा। पाकिस्तान यहाँ आया मणि से यह कहलवाने के लिए? और भाजपा के केंद्रीय मंत्री तक (वित्तमंत्री और क़ानून […]

Read More
 लोकतंत्र में राजनीति करने वालों का मिलना भी क्या अपराध होता है

लोकतंत्र में राजनीति करने वालों का मिलना भी क्या अपराध होता है

अशोक गहलोत का ग़ुस्सा जायज़ है। लोकतंत्र में राजनीति करने वालों का मिलना भी क्या अपराध होता है? फिर पुलिस और ख़ुफ़िया ब्यूरो से इसकी जासूसी क्यों, कि राहुल गांधी, अशोक गहलोत, हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी आदि किससे मिल-मिला रहे हैं? जासूसी का धंधा गुजरात में नया नहीं। पर भाजपा को इतने ख़र्च, केंद्र के […]

Read More
 नोबेल विजेता रिचर्ड थेलर और नोटबंदी के समर्थन का झूठा दावा

नोबेल विजेता रिचर्ड थेलर और नोटबंदी के समर्थन का झूठा दावा

भाजपा का खेला भी निराला है। जैसे ही अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार रिचर्ड थेलर को घोषित हुआ, केंद्रीय मंत्रियों तक ने हल्ला मचा दिया कि नोटबंदी के समर्थक को नोबेल मिला है। मानो नोटबंदी के अत्याचार, मंदी, बेरोज़गारी और नोटबंदी के कारण हुई मौतों के पाप से रातोंरात छुटकारा मिल गया। Richard Thaler just won […]

Read More