आज 24 दिसम्बर है,ये वो तारीख है जब भारत के सबसे बेहतरीन गायकों में से एक मोहम्मद रफी का जन्म हुआ था। मोहम्मद रफी वो शख्सियत थे जिन्होंने उन सुर और ताल से लेकर और संगीत के अलग अलग स्केल पर अपना लोहा मनवाया की बड़े बड़े सिंगर भी ऐसा कर पाने में कामयाब नही हो पातें थे।
Image result for mohammed rafi
 
मोहम्मद रफी कव्वाली,सूफ़ी, भक्ति,रोमांटिक और इमोशनल गानों को गाने की कुव्वत रखते है और इसे दुआओं का असर ही कहेंगे कि बिना ज़्यादा कुछ सीखें, किसी संगीत अकादमी में जाए बिना मोहम्मद रफी साहब की आवाज़ की दीवानगी का ये आलम था कि सिर्फ उनकी आवाज़ सुनने ही लोग सिनेमा घरों तक चले जातें थे।

Image result for mohammad rafi childhood photos
बचपन की तस्वीर

रफी साहब के बचपन की एक बात बहुत मशहूर है वो अपने पिता की दुकान से गुजरने वाले फकीर के गाने को सुनते हुए उसके पीछे चले जाते और दूर निकल जाते थे फिर लौटकर सभी को वो गाना सुनाया करते थे और तमाम लोग उनकी इस कला पर वाहवाही करते थे।इसी तरह कोटला सुल्तान पुर उनके गांव ने रफी साहब को जाना।
Image result for mohammad rafi childhood photos
मुहम्मद अली और मुहम्मद रफ़ी

मोहम्मद रफी साहब बेहद खुद्दार इंसान थे,एक बार एक गाने की शूटिंग चल रही थी,तो उसके काम के बाद सभी अपने घरों को लौट गए,लेकिन दो घण्टे बाद जब नोशाद साहब डायरेक्टर वहां आएं तो देखा कि मोहम्मद रफी वही बेठें है,नोशाद साहब के पूछने पर उन्होंने बताया की घर लौटने के पैसे नही है,तो नोशाद साहब बोलें की तो मांग लेते तो वो बोले अभी गाना पूरा नही कैसे मांगता?
Image result for mohammad rafi childhood photos
रफी साहब साहब ने सिर्फ हिंदी में गाने नही गाएं है उन्होंने पंजाबी,बंगाली,मराठी और बहुत सी ज़ुबानों में आवाज़ देकर दुनिया मे नाम कमाया है,इस काबिलियत की ही बदौलत उन्हें छह बार फिल्मफेयर अवार्ड मिला और एक बार राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला।
Image result for mohammad rafi childhood photos
उनके बारे में एक चीज़ मशहूर थी कि उन्हें सब कुछ ऊपरवाले की देन से मिला जिन्हें उन्होनें अपनी मेहनत से बढ़ाया और आखिर में सभी को वही जाना है रफी साहब भी चले गए,और 31 जुलाई 1980 को महज 55 साल की उम्र में सुरों का सरताज हमे छोड़ कर चला गया था।
Image result for mohammad rafi childhood photos
मोहम्मद रफी के जनाजे में हज़ारों आदमी थे जो उनकी मोहब्बत में चले आ रहे थे। लेकिन आज भी जब हम 93वी जन्मदिवस पर जब हम मोहम्मद रफी को याद कर रहें है वो हर ऐक पल में ज़िंदा नज़र आ रहें है,और वो रहेंगे हमेशा लोगों के दिलों में जिंदा,गूगल ने आज डूडल कर उन्हें याद किया है दुनिया मे ये उनका मुकाम है जो हमेशा रहेगा।

About Author

Asad Shaikh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *