October 26, 2020
बिहार

बाढ़ के कारणों के अध्यन के लिए केंद्र की टीम बिहार गई, नीतीश ने मोदी से की थी मांग

बाढ़ के कारणों के अध्यन के लिए केंद्र की टीम बिहार गई, नीतीश ने मोदी से की थी मांग

पटना :  देखा जाता रहा  है, की  बिहार  के  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और  प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी एक  दूसरे के विरोध का  कोई मौका नहीं गंवाते, पर इस बार खबर बिलकुल उलट है, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की एक मांग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मान लिया है. नीतीश ने केंद्र से मांग की थी कि जल्द से जल्द गंगा नदी में बाढ़ के कारणों और सिल्ट की समस्या के अध्ययन के लिए एक टीम भेजी जाए.
गुरूवार को केंद्र की एक चार सदस्यीय टीम गंगा बाढ़ नियंत्रण बोर्ड के सदस्य एके सिंह के नेतृत्व में बिहार आ  रही है, इस टीम में एनी सदस्य एसके साहू (केंद्रीय जल आयोग के चीफ इंजीनियर) , आईआईटी दिल्ली के प्रोफसर एके गोसाईं व केंद्रीय आपदा प्रबंध प्राधिकरण के सलाहकार रजनीश रंजन शामिल हैं. नीतीश कुमार की मांग थी कि जो दल भेजा जाए उसमें निष्पक्ष विशेषज्ञ रहें. सबसे बड़ी बात यह है कि इस टीम को अगले दस दिनों तक गंगा नदी में बाढ़ की वजह का पता लगाने के अलावा फरक्का बैराज के निर्माण के बाद सिल्ट की समस्या पर भी अध्ययन कर रिपोर्ट देने को कहा गया है. पिछले सप्ताह नीतीश-मोदी की मुलाकात के बाद सियासी गलियारों में राजनीतिक कयास भी लगाए गए थे, लेकिन जानकारों कहना है कि यह मुलाकात केवल बाढ़ तक सीमित थी और इसमें कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई. यह बैठक भी मात्र 25 मिनट चली थी और न ही इस बैठक से किसी अधिकारी को जाने के लिए कहा गया था.
बिहार में बाढ़ से पिछले दस दिनों में 12 ज़िलों के 35 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और अब तक बाढ़ में राज्य के 175 लोगों की जानें जा चुकी हैं. हालांकि राज्य में राहत को लेकर विपक्षी दलों का आरोप है कि सरकार के राहत कैंप में राहत कार्य सही ढंग से नहीं चल रहा, लेकिन अब नीतीश कुमार ने मांग की है कि पानी घटने के बाद केंद्र को बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए भी केंद्रीय टीम जल्द भेजनी चाहिए.

Avatar
About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *