सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है. जिसमें दावा है कि एक दलित प्रोटेस्ट की तस्वीर है.  तस्वीर में, बाइक से मिलने वाले कैडर को एक झंडा चढ़ाया जा सकता है, जिसका दावा है, यह पाकिस्तान का राष्ट्रीय ध्वज है.
फेसबुक में एक कैप्शन लिखा है कि दलित जुलूस में #पाकिस्तानी झंडे क्या कर रहे हैं। ये जातिवाद का जहर घोल के न तो महाराष्ट्र को तोड़ पाओगे और न ही “#भारततेरेटुकड़े_होंगे” का ख्वाब पूरा होगा।’

ऑल्ट न्यूज़ के अनुसार दलित समुदाय द्वारा भीम-कोरेगांव की लड़ाई की 200 वीं वर्षगांठ की स्मृति समारोह के बाद पुणे से 30 किलोमीटर दूर कोरेगांव में हुई हिंसा के बाद इस तस्वीर  को प्रसारित किया जा रहा है.
इस फोटो की सच्चाई का तो पता नही लगा कि ये कब ली गयी है, पर एक बार देखने पर लग भी रहा है कि ये पाकिस्तानी झंडे की तस्वीर है पर हम जब पास से देखते है तो पत्ता चलता है कि ये सच नहीं है.

साभार : ऑल्ट न्यूज़

नजदीक से देखने पर उपर दी गयी फोटो से पाकिस्तानी झंडे और इस्लामिक झंडे में फर्क साफ़ तौर पर समझा जा सकता है कि ये पाकिस्तानी झंडे में एक सफ़ेद पट्टी है. तो ये पाकिस्तानी झंडा न होकर इस्लामिक झंडा है.
सोशल मीडिया पर बोई जा रही इस चरस से सावधान रहे और जो भी न्यूज़ हो उससे एक बार जरूर जाँच-परख ले. ये न्यूज़ एक फेक न्यूज़ होकर किसी का राजनैतिक अजेंडा हो सकती है.

About Author

Ashok Pilania

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *