एटीएम से कैश गायब होने की खबर से मंगलवार को देश के कई छोटे-बड़े शहरों में हड़कंप मच गया है. हल्ला होने के बाद बड़ी संख्या में लोग एटीएम में पहुंचने लगे, हालांकि वित्त मंत्री का कहना है कि कैश की कोई कमी नहीं है.

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि एक हफ्ते में कैश की किल्लत दूर कर ली जायेगी. बनारस, भोपाल, पटना, हैदराबाद- हर जगह एटीएम ख़ाली दिखे और लोगों की भीड़ दिखी.

लगातार बढ़ते बढ़ते एनपीए यानी डूबते कर्ज से बैंकों की साख को झटका लगा है. इसके अलावा बाजार में उतारे गए 30 फीसदी से ज्यादा 2000 हजार के नोट बैंक में वापस नहीं आए. नोटबंदी के बाद नए एटीएम नहीं खुले बल्कि कुछ बंद हो गए.

डिजिटल पेमेंट को लेकर लोगों में उत्साह में कमी नजर आ रही है, लोग अभी भी नकद में सौदा करना ज्यादा पसंद कर रहे हैं. आने वाले समय में कई राज्यों में चुनाव हैं और आशंका है नोटों की जमाखोरी हो रही है.

गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से इस प्रकार की शिकायतें आ रही थीं. लेकिन मंगलवार को अचानक पूरे देश में कैश की कमी से हड़कंप मच गया. जिसके बाद सरकार, आरबीआई सभी को अचानक एक्टिव होना पड़ा.