गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ( Vijay Rupani ) ने मेहसाणा की एक सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधटे हुये कहा कि यदि 2019 में कांग्रेस सत्ता में वापस आई तो पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे.

रूपाणी ने नेता सैम पित्रोदा द्वारा बालाकोट हवाई हमले वाले बयान पर हमला करते हुए कहा, ‘पूरी दुनिया जानती है कि पाकिस्तान आतंकवादियों की शरणस्थली है और राहुल गांधी के शिक्षक सैम पित्रोदा कहते हैं कि पांच-सात युवकों (जिन्होंने पुलवामा हमला किया) के लिए पाकिस्तान को दोष देना गलत है. कांग्रेस नेता पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं.’

बाद में रूपानी ने कहा कि जब 23 मई को रिज़ल्ट आएगा तो नरेंद्र भाई की जीत पक्की हो जाएगी, जिसके बाद पाकिस्तान में शोक मनाया जायेगा.

ये पहली बार नहीं है, जब भाजपा नेताओं द्वारा पकिस्तान के नाम पर वोट मांगे गए हों

दरअसल ये बात बहुत ज़्यादा फ़ेमस हो चुकी है, कि चुनाव आते ही भाजपा नेताओं को पाकिस्तान याद आने लगता है. इसके पहले भी अमित शाह कई बार विधानसभा चुनावों के दौरान भाजपा की हार पर पाकिस्तान में जश्न वाला बयान दे चुके हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गुजरात विधानसभा चुनावों के समय दिया गया वो बयान तो याद होगा,, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि पाकिस्तान में उन्हें सत्ता से हटाने की साज़िश रची जा रही है.

बिहार में गिरिराज सिंह हों या फिर गृहमंत्री राजनाथ सिंह. भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के बयानों में अब पाकिस्तान सामान्य शब्द बन चुका है, या यूं कहिये पाकिस्तान वो बटन है, जिसे दबाने पर भाजपा के लिए वोटों का बल्ब जल उठता है.