शनिवार को बिहार के हर ज़िला मुख्यालय में जेलों में छापेमारी की गयी. इन छापों का सबसे चौंकाने वाला नतीजा मुजफ्फरपुर जेल के छापे में मिला. ज्ञात होकि बिहार में 15 अगस्त के पहले हर साल जेलों में छापेमारी की जाती है.

मुजफ्फरपुर जिला जेल में जब कलेक्टर और एसएसपी छापा मारने पहुंचे तब बलिका गृह रेप कांड का मुख्‍य आरोपी ब्रजेश ठाकुर मुलाक़ातियों से मिलने वाले एरिया में था. जांच में उसके पास से कई काग़जात मिले.

बालिका गृह रेप काण्ड के आरोपी के पास दो पन्नों में क़रीब चालीस लोगों के नाम और मोबाइल नंबर मिले. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ इसमें एक मंत्री जी सहित कई प्रभावी लोगों के नाम शामिल हैं.

छापे के दौरान मिले सभी काग़जात ज़ब्त कर सील कर दिए गए हैं. इस छापेमारी के बाद प्रशासन ब्रजेश ठाकुर की बीमारी को बहाना मान रहा है. बताया जा रहा है कि इसके अलावा कुछ और काग़जात मिले हैं उससे लग रहा है कि वो अपने वकीलों के साथ बैठ कर कैसे लोगों को फंसाना है, इसकी रणनीति तैयार कर रहा है.