दक्षिण भारत के सुपरस्टार रजनीकांत के राजनीति में आने की अटकले काफी समय से लगाई जा रही हैं. लेकिन उन्होंने कहा है की  31 दिसंबर को वो अपना रुख साफ करेंगे. अपने फैंस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वो राजनीति में आने को लेकर दुविधा में हैं, क्योंकि उन्हें मालूम है कि ये बिलकुल अलग क्षेत्र है.
रजनीकांत अपने फैंस के साथ 6 दिवसीय फोटो सेशन कर रहे हैं.


दक्षिण भारत में ‘थलाइवा’ यानी बॉस नाम से मशहूर रजनीकांत की अपने फैन्स से मुलाकात राघवेंद्र कल्याणा मंडपम में हो रही है. 18 जिलों से आए करीब 1000 फैन्स तमिल सुपरस्टार से मिलने पहुंचे हैं.
उस समय चर्चा हो रही थी कि वह जल्द राजनीति में आने वाले हैं. लेकिन, तब ऐसी कोई घोषणा नहीं हुई. बीजेपी पहले ही उन्हें पार्टी में शामिल होने का ऑफर दे चुकी है. हालांकि, रजनीकांत ने यह ऑफर स्वीकार नहीं किया था.
हालांकि अब रजनीकांत ने यहां राघवेंद्र कल्याणा मंडपम में अपने प्रशंसकों से कहा कि वह राजनीति में नए नहीं है. उन्‍होंने कहा, ‘पहले ही बहुत देर हो चुकी है. प्रवेश ही जीत के बराबर है. मैं अपने फैसले का ऐलान 31 दिसंबर को करूंगा. आगे उन्होंने कहा ‘मुझे पता है कि राजनीति में आने के बाद नुकसान क्या है, जिसकी वजह से मैं अनिच्छुक हूं. हमें राजनीति में आने के लिए विवेक और रणनीति दोनों की जरूरत होती है. यदि आपने युद्ध के मैदान में कदम रखा तो आपको जीतना होगा. युद्ध मतलब चुनाव. मैं आज भी आभारी हूं, जब जयललिता मुझसे मेरे घर में मिली थीं.  बहरहाल, मैंने अपने प्रशंसकों से मिलने के लिए पहले ही तैयारी की थी. ‘काला’ फिल्म और बारिश की वजह से प्रशंसकों से मुलाकात नहीं हो सकी थी.
रजनीकांत के करीबी सूत्रों ने कहा, ‘रजनीकांत अलग पार्टी बनाएंगे और बीजेपी समेत किसी अन्य पार्टी में शामिल नहीं होंगे.’ उन्होंने कहा कि यदि बीजेपी लोकसभा चुनाव से पहले रजनी को सदस्य या सहयोगी के रूप में अपने पाले में लाना चाहती है, तो भी वह अपनी ऊर्जा आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बचाकर रखना चाहेंगे. बीजेपी चाहती है कि आगामी विधानसभा चुनाव स्टालिन बनाम रजनीकांत हो.

About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *