हाल ही में पूरे देश और दुनिया को हिलाने वाले 8 साल की बच्ची से कठुआ में हुए गैंगरेप और हत्या मामले में जम्मू की सेशन कोर्ट में आज सुनवाई होगी.
सुनवाई से ठीक पहले पीड़ित पक्ष की वकील दीपिका सिंह राजावत ने आशंका जाहिर की कि इस केस की वकील बनने की वजह से उनकी जान को खतरा है. उनकी रेप के बाद हत्या की जा सकती है.
दीपिका राजावत को इस बात का भी डर है कि इस केस में सियासी दखलंदाजी भी हो सकती है. हालिया दिनों में आरोपियों के पक्ष में प्रदर्शन से भी वह बेहद चिंतित हैं.
उन्होंने कहा कि केस को जम्मू-कश्मीर से अलग दूसरे राज्य में ट्रांसफर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करेंगी.
वहीं दूसरी तरफ भाजपा के दो मंत्रियों चंद्रप्रकाश गंगा और लाल सिंह ने महबूबा मुफ्ती मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है. दोनों मंत्री एक मार्च को हिन्दू एकता मंच की रैली में शामिल हुए थे.
कठुआ गैंगरेप और हत्या का मामला हिंदू-मुस्लिम विवाद में फंसने की वजह से जम्मू-कश्मीर की महबूबा सरकार ने सिख समुदाय के दो वकील को सरकारी वकील बनाया है. वह कोर्ट में पुलिस का पक्ष रखेंगे.
पीड़ित पक्ष की वकील दीपिका सिंह राजावत ने कहा, ”मेरा भी रेप हो सकता है या हत्या करवाई जा सकती है. शायद मुझे कोर्ट में वकालत न करने दी जाए. मैं नहीं जानती कि अब मैं यहां कैसे रहूंगी. हिंदू विरोधी बताकर मेरा बहिष्कार किया गया है.” उन्होंने आगे कहा, ”केस ट्रांसफर करने और अपनी और परिवार की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करूंगी.”

About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *