दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार – अजमेर ज़िले में पिता के साथ पहाड़ी पर बने मंदिर गई एक सात साल की बच्ची के साथ वहीं नीचे बने एक अन्य मंदिर के 70 साल के पुजारी द्वारा दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई कर शांतिभंग में आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, वहां से जमानत मिलते ही दुष्कर्म के आरोप में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया.
आरोपी के खिलाफ प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेज (पॉक्सो) अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर तहकीकात शुरू कर दी है.

आरोपी पुजारी और अपनी मां की गोद में बच्ची, फ़ोटो क्रेडिट – दैनिक भास्कर

अलवर गेट थाना पुलिस ने पीड़ित बच्ची का मेडिकल मुआयना करवाया है. थाना प्रभारी हरिपाल सिंह मामले के जांच अधिकारी हैं. पुलिस के मुताबिक एमपी के जबलपुर जिला स्थित हिनौता खवरियां निवासी सेवानंद उर्फ बलवंत सिंह उर्फ धोबीला को गिरफ्तार किया गया है.
ये भी पढ़ें – भारत में 98 रुपये प्रति लीटर तक पहुँच सकती है पेट्रोल की कीमतें

  • आरोपी कल्याणीपुरा गांव में कालीचाट माता मंदिर के नीचे बने हनुमान मंदिर का पुजारी है
  • पीड़िता के पिता ने बताया कि वे अपनी बच्ची के साथ माता मंदिर गए थे। यह मंदिर ऊंचाई पर है, बच्ची नीचे वाले हनुमान मंदिर पर रुक गई.
  • वहां पुजारी सेवानंद उसे अपने कमरे में ले गया। माता मंदिर से वापस लौटने पर बच्ची नहीं मिली तो उसे तलाशा, पुजारी सेवानंद बच्ची के साथ आपत्तिजनक स्थिति में मिला.

पिता ने जब यह स्थिति देखी तो उनसे रहा नहीं गया, पहले बच्ची को घर छोड़ा और वहां घरवालों व ग्रामीणों को बुलाकर पुजारी की जमकर पिटाई कर दी. हाथों हाथ पुलिस को पुजारी की करतूत बताई.

  • आरोपी सेवानंद पिछले चालीस सालों से अजमेर में रह रहा है. लंबे समय से इसी मंदिर का पुजारी है
  • आरोपी की करतूत की पोल खुलने के बाद कल्याणीपुरा गांव के ग्रामीणों में रोष व्याप्त है
  • थाना प्रभारी हरिपाल सिंह ने बताया कि आरोपी का आपराधिक बैकग्राउंड पता लगाने के लिए उसके पते पर पुलिसकर्मी भेजा गया है

“सूचना पर पुलिस दल ने मौके पर पहुंचकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. मौके की वीडियोग्राफी करवाई गई. एफएसएल टीम ने भी मौका मुआयना कर साक्ष्य जुटाए. आरोपी के खिलाफ सख्त धाराओं में प्रकरण दर्ज किया गया है. एमपी पुलिस से उसके क्रिमिनल रिकार्ड की जानकारी जुटाई जा रही है. जल्द से जल्द कड़ी सजा मिले इसके लिए इस मामले को केस आफिसर स्कीम में लेकर चालान पेश करेंगे.”
(मोनिका सैन, सहायक पुलिस अधीक्षक )

ये भी पढ़ें

जाति के कारण बारिश से बचने के लिए छत नहीं मिली थी डॉ आंबेडकर को
देश में दंगे और बढ़ती नफ़रतों की वजह है “इस्लामोफोबिया

About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *