सरकार ने आधार कार्ड को प्रस्तावित करने से पहले आश्वासन दिलाया था कि आधार कार्ड जनता के लिए फायदेमंद रहेगा और इसमें दी गई जानकारी को गुप्त रखा जाएगा. लेकिन अगर आप भी ऐसा ही सोच रहे है तो ये बिल्कुल गलत है. अब आप 500 रुपए देकर लाखों नहीं बल्कि करोड़ों आधार कार्ड की जानकारी हासिल कर सकते हैं. लेकिन एक नियमित अंतराल पर आधार डेटा लीक हो जाने या लोगों की जानकारियां चुराने की खबरें आती हैं, जिससे सरकारी दावे की पोल खुल जाती है. ऐसे में इस बात पर यकीन करना मुश्किल है कि हमारा और आपका आधार डेटा सुरक्षित है.
चंडीगढ़ के विख्यात अखबार “द ट्रिब्यून” की खबर के मुताबिक अगर आपको आधार डेटा चाहिए तो बस पेटीएम के माध्यम से 500 रुपए देना होगा और 10 मिनट के अंदर आपको सारी जानकारी मिल जाएगी. खबर के मुताबिक, एक रैकेट है जो कि गेटवे नाम के माध्यम से आपको लॉग इन और पासवर्ड देगा. इसके बाद आप किसी का भी आधार नंबर उसमें डालिए आपको उस नंबर पर उपलब्ध सारी जानकारियां मिल जाएगी. पिन कोड से लेकर मोबाइल नंबर और आपकी मेल आईडी तक. और इसकी कीमत आपको चुकानी होगी सिर्फ 500 रुपए.

कांग्रेस ने साधा निशाना

इस मामले में कांग्रसे ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया कि जिस योजना को यूपीए सरकार ने लोगों को विकास के दायरे में लागू करने के लिए चुना था वह योजना अब एनडीए सरकार में आपके पहचान को चुराने का जरिया बन गया है.

नेता सीताराम ने भी ट्वीट करते हुए लिखा है कि क्या अब इस पागलपन को बंद करने के लिए और सबूत चाहिए


सरकार ने दी सफाई 
‘आधार’ के ऑफिसियल हैंडल से ट्वीट करते हुए सरकार ने सफाई दी कि यह गलत रिपोर्टिंग का मामला है. यूआईडीएआई ने आश्वासन दियाहै कि कोई आधार डेटा उल्लंघन नहीं है और यह डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है.


 

About Author

सुभाष बगड़िया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *