क्रिकेट

लाहौर में झेला था आतंकी हमला, अब बतौर कोच पहुंचे हैं पाकिस्तान

लाहौर में झेला था आतंकी हमला, अब बतौर कोच पहुंचे हैं पाकिस्तान

वनडे और टी20 सीरीज़ के लिए न्यूज़ीलैंड की टीम पाकिस्तान (इस्लामाबाद) पहुंच चुकी हैं। इस सीरीज में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के बीच 3 वनडे और 5 टी20 मैच होने है।इससे पहले साल 2003 में न्यूजीलैंड टीम 5 वनडे मैच के लिए पाकिस्तान के दौरे पर आई थी।बता दें कि पिछले साल भी टीम पाकिस्तान के दौरे पर आई थी, लेकिन करांची में होटल के बाहर अचानक हुए धमाके के बाद टीम को तुरंत पाकिस्तान से जाना पड़ा था।

यहां बताने वाली बात ये है कि न्यूज़ीलैंड टीम के साथ श्री लंका के जाने माने क्रिकेटर थिलन समरवीरा (thilan samarvira ) भी पाकिस्तान आएं हैं। फ़िलहाल, समरवीरा न्यूज़ीलैंड टीम के बैटिंग कोच है। समरवीरा का पाकिस्तान के साथ एक कभी न भुलाया जाने वाला वाक्या जुड़ा है। ये वाक्या उनके लिए ऐसी बुरी याद है, जिसे शायद वो खुद भी कभी चाह कर भुला नहीं पाएंगे।

पूरी टीम पर हुआ था आतंकी हमला,समरवीरा की जांघ में लगी थी गोली

2009 में श्री लंका की टीम टेस्ट मैच के लिए पाकिस्तान आई थी। मैच लाहौर के ग़द्दाफ़ी स्टेडियम में होना था। लेकिन उसी दौरन श्री लंका की टीम की बस पर आतंकी हमला हो गया। उस समय बस स्टेडियम के बाहर ही खड़ी थी। आतंकी हमले में पूरी टीम घायल हुए थी, वहीं समरवीरा की जांघ में गोली 12 इंच गहरी जा धंसी थी। हमला तब हुआ जब समरवीरा पाकिस्तान के खिलाफ पूरी फॉर्म में खेल रहे थे। वो दो शतक भी जड़ चुके थे।लेकिन इस हादसे के बाद करीबन 3 महीने बाद समरवीरा ने क्रिकेट ग्राउंड पर वापसी की।



मानसिक और शारीरिक दिक्कतों का किया था सामना

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक समरवीरा को इस हमले के बाद मानसिक और शारीरिक दिक्कतों से जूझना पड़ा था।लेकिन उन्होंने एक गोली को अपना क्रिकेट करियर ख़त्म नहीं करने दिया।आतंकी हमले के दौरन समरवीरा पूरी फॉर्म में पाकिस्तान के खिलाफ दो शतक बना चुके थे।हालांकि,इस गोली कांड के बाद हुए सर्जरी के कारण 3 महीने तक न केवल क्रिकेट से दूर रहे बल्कि शारीरिक दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा था।हालांकि,ठीक होने के बाद उन्होंने अपना 50वा मैच पाकिस्तान के खिलाफ ही खेला था।

समरवीर का क्रिकेट करियर

समरवीरा का जन्म 1976 में श्रीलंका में हुआ था।2001 में क्रिकेट में अपने जीवन की शुरुआत की थी।समरवीरा अंतराष्ट्रीय स्तर पर श्रीलंका की तरफ से वनडे और टी20 खेला करते थे।एक समय पर समरवीरा श्रीलंकाई टीम के जाने माने चेहरे थे।2001 में भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से शुरुआत की थी।इस मैच में समरवीरा ने शतक बनाया था।हालांकि,2006 में वीक परफॉर्मेंस के कारण उन्हें टीम से बाहर निकाल दिया गया था।

लेकिन जब उन्होंने दुबारा टीम में वापसी की तो पहले से दुगने आक्रामक अंदाज़ में दिखे।2008 में फिर एक बार भारत के खिलाफ ही टेस्ट मैच खेला था और शतक बनाया।इसके बाद 2009 में पाकिस्तान के आतंकी हमले में गोली खाने के बाद भी उन्होंने अपने अंदाज को बरकरार रखा।2013 में क्रिकेट से सन्यास लेकर कोचिंग में खुद को आज़माया।

18 साल बाद पाकिस्तान पहुंचा न्यूज़ीलैंड

बीते शनिवार को न्यूज़ीलैंड टीम पाकिस्तान पहुंची। इस बार न्यूज़ीलैंड पूरे 18 साल बाद किसी वनडे और टी20 मैच के लिए पाकिस्तान पहुंची हैं। इससे पहले 2003 में न्यूजीलैंड,पाकिस्तान दौरे पर गया था। हालांकि, पिछले साल करांची में एक मैच के लिए न्यूज़ीलैंड का पाकिस्तान जाना हुआ था। लेकिन उस वक्त करांची में जिस होटल में न्यूजीलैंड टीम ठहरी हुई थी उसी के बाहर अचानक धमाका हो गया था। जिसके बाद पूरी टीम को दौरा बीच में ही छोड़ कर आना पड़ा।

About Author

Team TH