धर्मनिपेक्षता पर पंडित नेहरू के क्या विचार थे ?

धर्मनिपेक्षता पर पंडित नेहरू के क्या विचार थे ?

‘‘हम भारत में धर्मनिरपेक्ष राज की बात करते हैं। लेकिन संभवतः हिंदी में ‘सेक्यूलर’ के लिए कोई अच्छा शब्द तलाशना भी मुश्किल है। कुछ लोग समझते हैं कि धर्मरिपेक्ष का मतलब कोई धर्मविरुद्ध बात है। यह बिल्कुल भी सही नहीं है। इसका मतलब तो यह है कि एक ऐसा राज जो हर तरह की आस्था […]

Read More
 नज़रिया – क्या टोपी लगा लेने से मुस्लिमों के प्रति सोच बदल जाती है?

नज़रिया – क्या टोपी लगा लेने से मुस्लिमों के प्रति सोच बदल जाती है?

क्या आपको कोई तिलक लगायेगा, तो आप लगवाओगे. बिलकुल नहीं लगवाओगे. फिर योगी या मोदी टोपी नहीं लगाते हैं. तो इतना हो हल्ला क्यों मचाते हो भाई? कुछ गलत नहीं किया यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टोपी न पहनकर. क्या टोपी लगाने से योगी आदित्यनाथ का मन परिवर्तन हो जाता. क्या उस मुंह से […]

Read More
 नज़रिया – समाजवाद, मुस्लिम और धर्मनिरपेक्ष सियासत

नज़रिया – समाजवाद, मुस्लिम और धर्मनिरपेक्ष सियासत

2014 के आम चुनाव में पूरे देश से लगभग 23 मुस्लिम लोकसभा सदस्य चुने गए थे, और आपको जानकर आश्चर्य होगा कि ये सभी लोग वहीं से जीते थे जहाँ मुस्लिमों की आबादी उस लोकसभा क्षेत्र में सबसे अधिक थी। एक भी सीट ऐसी जगह से नहीं जीते जहाँ इनकी आबादी 30% से कम थी, […]

Read More