मध्यप्रदेश

शिवराज ने की विश्वविद्यालय सुधार की पैरवी

मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज ने देश में विश्वविद्यालय शिक्षा सुधार की पैरवी की है.  शिवराज सिंह अपनी लुभावनी योजनाओं के तौर पर जाने जाते है. शिवराज ने मध्यप्रदेश में अनेक लोक-लुभावनी योजनाएं शुरू कर एमपी में सुर्खियाँ बटोरी है.
क्या कहा शिवराज ने?
ईटीवी की रिपोर्ट के अनुसार सीएम ने भोपाल में राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में देश के मध्य क्षेत्र के सात विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के सम्मेलन में आरजीपीवी के न्यूज़ लेटर का विमोचन करते हुए कहा कि

शिवराज सिंह चौहान

विदेशों में पढ़ने वाले छात्रों पर हर साल 43 हजार करोड़ रु. खर्च हो रहे है, ऐसे में देश की यूनिवर्सिटी को शिक्षा में सुधार की जरूरत,जिससे छात्रों को विदेश में पढ़ाई के लिये ना जाना पड़े.’ 


शिवराज ने इसके अतिरिक्त अन्य बातें कही कि ‘”विश्वविद्यालयों की स्वायत्तता बरकरार रखते हुए आवश्यकतानुसार उनका विस्तार करने की परिस्थितियाँ बनाई जायेंगी। विश्वविद्यालयों को ज्ञान और कौशल देने के अलावा नागरिकता की शिक्षा देने पर भी ध्यान देना होगा.’


संस्कारों की शिक्षा देने के तरीकों पर भी विचार करने की आवश्यकता है। भारत मे नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय रहे हैं, जो पूरे विश्व में विख्यात थे। आज सोचना पड़ेगा कि भारत के विश्वविद्यालय दुनिया के सौ शीर्ष विश्वविद्यालयों में कैसे शामिल हों

About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Lost your password? Please enter your email address. You will receive mail with link to set new password.