मध्यप्रदेश के सिवनी में पुलिस ने श्री राम सेना और बजरंग दल से जुड़े 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. गौरक्षा के नाम पर बर्बरतापूर्वक मारपीट करने वाले इन चारों आरोपियों पर बलवा और मारपीट की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ज्ञात होकि सिवनी के डूंडासिवनी क्षेत्र में 22 मई को पीड़ितों को गौमांस के साथ श्रीराम सेना के शुभम बघेल और उसके साथिओं ने तीन लोगों ( जिनमें एक महिला भी शामिल थी ) को पकड़ा था. पीड़ित एक ऑटो में थे. वीडियो में तौसीफ़ चिल्ला चिल्लाकर बता रहा है, कि वह ऑटो चालक है और समीपस्थ ग्राम कान्हीवाड़ा से आ रहा था. मांस से उसका कोई सम्बन्ध नहीं है. पर तौसीफ़ की बात किसी ने नहीं सुना और अमानवीयता की हद्द पार कर दी. श्रीराम सेना के लोगों के मुताबिक तौसीफ़ एक्टिवा से आ रहा था और उसकी एक्टिवा से भी मांस जप्त किया गया है. पर पुलिस के मुताबिक़ जिस एक्टिवा में मांस मिला है, वह शकील नामक व्यक्ति चला रहा था, जोकि फ़रार है. इसके  आलावा अन्य दो लोग जिनमें सिवनी का ही निवासी दिलीप मालवी बताया जाता है. दिलीप मालवी  गौमांस के ही मामले में पहले भी पकड़ा जा चुका है.

वीडियो देखा जा सकता है कि गौरक्षक किस तरह दिलीप मालवी के हाथ में चप्पल देकर साथ की ही महिला जिसका नाम अंजुम उर्फ़ समा अंसारी पति मक़सूद अंसारी बताया जा रहा है, उसके मुंह पर चप्पलों से मारने को मजबूर कर रहे हैं. साथ ही महिला और दिलीप मालवी से जय श्रीराम के नारे लगाने को ज़बरदस्ती की जा रही है. उक्त घटना के बाद आरोपियों ने तीनों पीड़ितों को पुलिस के हवाले कर दिया था. पुलिस ने तीनों पर गौवंश से संबंधित धारा के तहत केस दर्ज कर जेल भेज दिया गया है.घटना के बाद महिला की बहन ने एफ़आईआर दर्ज कराई है.

शुभम बघेल सहित 5 आरोपी पुलिस गिरफ़्त में

सिवनी के पुलिस अधीक्षक के अनुसार पुलिस ने शुभम बघेल और उसके चार  साथियों को गिरफ्तार कर बलवा और मारपीट की धारा लगाकर जेल भेज दिया है. शुभम बघेल, एक आदतन अपराधी, योगेश उइके, दीपेश नामदेव, रोहित यादव और श्याम डेहरिया को मारपीट के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पांचों के खिलाफ आईपीसी की धारा 143, 148, 149, 341, 294, 323 और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया है.साथ ही उन पर हथियार अधिनियम की धाराएं भी दर्ज की गई हैं.

घटना के बाद शुभम बघेल ने अपनी फ़ेसबुक आईडी में उक्त वीडियो को पोस्ट कर दिया. फ़ेसबुक में शुभम खुद का नाम शुभम सिंह हिन्दू लिखता है. वीडियो वायरल होने के बाद शुभम ने उसे डिलीट कर दिया, पर तब तक वीडियो कई जगह से डॉऊनलोड किया जा चुका था. शुभम बघेल की फ़ेसबुक वाल खंगालने पर उसकी तस्वीर मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी और भोपाल से भाजपा की सांसद चुनी गई साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के साथ पाई गई. जैसे ही लोकसभा चुनावों के रिज़ल्ट में भाजपा को बढ़त मिलना चालू हुई, यह वीडियो 23 मई को फ़ेसबुक में अपलोड कर दिया गया. हालांकि घटना एक दिन पहले 22 मई की बताई जा रही है.