पिछले दो तीन दिन से सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है

जिसमें दो युवक मीडिया कैमरों के सामने बैठ कर घोषणा करते हैं कि अखिल भारत हिन्दू युवा मोर्चा की बैठक में ये निर्णय लिया गया है कि जो भी हिन्दू किसी मुस्लिम लड़की से शादी करेगा तो अखिल भारत हिन्दू युवा मोर्चा की किसी भी शाखा से उसे ढाई लाख का चेक और छह महीने तक उनके खाने, रहने और सुरक्षा की व्यवस्था की जाएगी.

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करने का अर्थ आप समझ सकते हैं, समाज में और देश में परस्पर नफरत, उन्माद और उकसाऊ वातावरण बनाकर माहौल को दूषित ही करना है.

मुस्लिम युवक ने हिन्दू लड़की को सकुशल उसके घर पहुँचाया

ऐसे प्रदूषित और नफरती माहौल में भी कई ऐसे लोग हैं जो बेख़ौफ़ और बेलौस होकर इंसानियत का परचम बुलंद किये हुए हैं, इसमें एक नाम है सलमान सिद्दीक़ी का जिन्होंने घर से बहला फुसलाकर भागी एक नाबालिग हिन्दू लड़की को सकुशल उसके माता पिता तक पहुंचाया है.

गोरखपुर से भाग कर दिल्ली आयी वो लड़की सलमान सिद्दीक़ी से रेलवे प्लेटफॉर्म पर टकराई थी और कमरा या नौकरी दिलाने के लिए मदद की गुहार की थी, सलमान सिद्दीक़ी ने उसे मदद का भरोसा दिलाया और उसे सांत्वना देकर गोरखपुर शहर ले आये तथा वहां उन्होंने उसके शहर, गांव का पता तथा माता पिता के कॉन्टैक्ट नंबर्स लेकर उन्हें सूचना दी.

लड़की के माता पिता सूचना मिलते ही तुरंत गोरखपुर के लिए रवाना हुए और वहां अपनी बिटिया को पाकर उनकी आँखों में आंसू आ गए, उन्होंने सलमान सिद्दीक़ी का शुक्रिया अदा किया, इस दौर में घर से भागी नाबालिग हिन्दू लड़की को सही सलामत माता पिता को सौंपने वाले इस मुसलमान लड़की सलमान सिद्दीक़ी की हर जगह सराहना हो रही है.

कल्पना करके ही देखिये कि अगर गलती से ये नाबालिग बच्ची किसी बदमाश के हत्थे चढ़ जाती तो क्या होता?

लव जिहाद से लेकर ढाई लाख रूपये देकर मुसलमान लड़कियों से शादियां करने जैसे उन्मादी और कुत्सित एजेंडों के सामने सलमान सिद्दीक़ी जैसे लोग आज भी सीना ताने खड़े हैं जिनके लिए ऐसे वक़्त में न कोई हिन्दू है न कोई मुसलमान बल्कि इंसानियत पहले है.