पीएमओ का एक ट्वीट इन दिनों सुर्खियों में बना है.गुरुवार को स्वास्थ्य सेवाओं के संबंध में पीएमओ की ओर से विवादित ट्वीट कर दिया गया.अंग्रेजी में किए गए ट्वीट में व्याकरण गलत होने के कारण पीएम द्वारा दिए गए बयान के अर्थ का अनर्थ हो गया. जिस पर लोगों ने पीएम मोदी और पीएमओ को जमकर ट्रोल किया.पीएमओ के इस ट्वीट के इन दिनों खूब मजे लिए जा रहे हैं.ट्वीट कर तीखे कटाक्ष किए जा रहे हैं.
दरअसल पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान कहा कि हम सब को मिल कर गरीब को सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए प्रयास करना चाहिए लेकिन पीएमओ ने लिख दिया Let us work together in providing the poor quality and affordable healthcare इस वाक्य में poor के बाद with होना चाहिए था. ऐसा ना होने से इस वाक्य का मतलब ही बदल गया.
पीएम को फॉलो करने वाले लोगों ने तुरंत इसकी आलोचना करनी शुरू कर दी.फिर तो ट्विटर पर ट्वीट की बाढ़ ही आ गई. जिसमें कहीं पीएम को निशाना बनाया गया, तो कहीं पर उनका बचाव भी किया गया है, लेकिन ज्यादातर जगहों पर पीएम के इस ट्वीट पर सवाल उठाए गए हैं. एक युवती ने उस ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए लिखा कि खराब और सस्ती स्वास्थ्य सेवा ! और कुछ हो भी नहीं सकता है.
किसी ने कहा कि भाजपा को एक ग्रामर स्कूल की जरूरत है. वहीं एक यूजर ने कहा कि एक कॉमा, आपको कोमा में ले जा सकता है. यह भी लिखा जा रहा है कि यह अच्छा समय है, जब शशि थरूर भाजपा को अंग्रेजी सिखा सकते हैं. कुछ य़ूजर्स ने ये भी कहा कि जिस बदतर स्वास्थ्य सेवाओं की आप बात कर रहे हैं, वह तो पहले से ही मौजूद हैं और उसके लिए आपको कुछ भी करने की जरूरत नहीं है.
वहीं कुछ लोग री-ट्वीट कर पीएम का बखान भी कर रहे हैं और कह रहे हैं कि देश में पहली बार किसी पीएम ने सच कहने का साहस जुटाया है. लोगों ने यह तक कहा कि यह पकौड़े का प्रभाव है, यह ‘पकौड़ा गवर्नमेंट’ है.

About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *