राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीएम और उनकी पार्टी पर जमकर हमला बोलते हुए  कहा कि, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कल संसद में कांग्रेस और कांग्रेस नेताओं के प्रति हल्की भाषा प्रयोग करने पर माफी मांगनी चाहिए.

गहलोत ने कहा कि, देश में जिस तरह नफरत, हिंसा और घृणा की राजनीति की जा रही है, भय और अशांति का माहौल बनाया जा रहा है, उससे लोकतंत्र पर खतरा मंडराने लगा है. ये समझ नहीं आता कि मोदी सरकार देश को किस रास्ते पर ले जाना चाहती है.

 

पूर्व मुख्यमंत्री  अपने निवास पर पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल की राजस्थान यात्रा पर सम्मान पार्टी के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए ये उक्त बाते कही.

  • राजस्थान के हालात पर उन्होंने कहा कि, भाजपा सरकार के चार साल के शासन को जनता समझ गई है कि ये लोग चुनाव जीतने के लिए झूठे वादे करते हैं और बाद में कुछ नहीं करते.
  • उन्होंने आगे कहा कि, अब तो प्रदेश की आम जनता मुख्यमंत्री से पूछ रही है कि हमारा क्या कसूर है जो बड़ी बड़ी परियोजनाओं पर रोक लगाई और विकास ठप कर दिया.
  • यही वजह है कि हाल ही के तीन उपचुनावों में सभी सत्रह विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा को हराकर जनता ने अपना गुस्सा निकाला है.

उन्होंने भाजपा के भीतर भारी अंतर्कलह है और उनमें मची भगदड़  पर भी चुटकी लेते हुए कहा कि, कांग्रेस चाहती है कि वसुंधरा राजे चुनाव तक मुख्यमंत्री पद पर बनी रहे, इसके बाद तो जनता ही उन्हें सत्ता से बाहर कर देगी.