जब परवेज़ मुशर्रफ़ ने किया था नवाज़ शरीफ़ का तख्तापलट

जब परवेज़ मुशर्रफ़ ने किया था नवाज़ शरीफ़ का तख्तापलट

1947 में भारत से अलग हुए पाकिस्तान (Pakistan) के हुक्मरानों ने उसे डेमोक्रेटिक यानी लोकतांत्रिक घोषित किया था। लेकिन इतिहास गवाह है कि पाकिस्तान में कभी स्थाई लोकतांत्रिक व्यवस्था नहीं रही। यहां तक आज भी ये माना जाता है, पाकिस्तान में लोकतंत्र बस एक दिखावट भर है। कोई भी प्रधानमंत्री बिना पाकिस्तानी सेना की मदद […]

Read More
 क्या आक्रमक छवि के साथ उभर रहे हैं राहुल

क्या आक्रमक छवि के साथ उभर रहे हैं राहुल

देश में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की लोकप्रियता पीएम मोदी जी से कम नहीं है। हर भारतीय के लिए राहुल गांधी पर बात करना और उन पर हंसना, उन्हें बहुत आसान लगता है। जिसे सत्ता रूढ़ पार्टी ने देश के लोगों के सामने पप्पू बना दिया, वास्तव में वो बहुत ही गंभीर और समझदार नेता […]

Read More
 जब शकुंतला देवी को मिला था “मानव कंप्यूटर” का ख़िताब

जब शकुंतला देवी को मिला था “मानव कंप्यूटर” का ख़िताब

दुनिया भर में भारत का नाम रोशन करने वाली शंकतुला देवी (Shakuntala Devi) को आज देश के सभी लोग जानते हैं। खासकर विद्या बालन ने शकुंतला देवी पर फिल्म बना कर उनके व्यक्तित्व और उनकी कामयाबियों को हर घर तक पहुंचा दिया गया है। शकुंतला देवी की अचीवमेंट न सिर्फ उनके लिए बल्कि देश की […]

Read More
 मुमताज़ की मौत के बाद शाहजहां ने दो साल तक नही पहना था शाही लिबास

मुमताज़ की मौत के बाद शाहजहां ने दो साल तक नही पहना था शाही लिबास

मुगल बादशाह शाहजहां ( Mughal Emperor Shahajahan) और उनकी खास सबसे पसंदीदा बेगम मुमताज महल ( Mumtaz Mahal) को उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थित ताजमहल के लिए याद किया जाता है। ये ताज महल (Taj Mahal)  दुनिया के सात अजूबों में से एक है। दुनिया में ये अपनी सफेद सुंदरता के लिए जाना जाता […]

Read More
 खंडहर हो गई थी मस्जिद की इमारत, पुनःनिर्माण के लिए आगे आये सिख

खंडहर हो गई थी मस्जिद की इमारत, पुनःनिर्माण के लिए आगे आये सिख

पंजाब के मोगा के एक गांव ने धार्मिक सद्भाव के अनूठी मिसाल पेश की है। सिख बहुल भुल्लर गांव में कुछ हिंदू और मुस्लिम समुदाय के कुल चार परिवार रहते हैं। इस गांव में रहने वाले दो समुदायों के धार्मिक स्थल पहले से मौजूद थे। लेकिन गांव में रहने वाले 4 मुस्लिम के लिए कोई […]

Read More
 चे ग्वेरा जिसके चाहने वाले भारत में भी कम नहीं हैं

चे ग्वेरा जिसके चाहने वाले भारत में भी कम नहीं हैं

14 जून 1928 को लैटिन अमेरिका में पैदा होने वाले चे ग्वेरा के चाहने वाले आज भी भारत में मौजूद हैं। चे ग्वेरा का जन्म अर्जेंटीना के एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। चे ग्वेरा कुछ लोगों के लिए महान क्रांतिकारी और कुछ लोगों के लिए बस एक हत्यारा। चे ग्वेरा पर कई बार ये […]

Read More
 सुशांत की मौत के एक साल, मीडिया ट्रायल ने स्थापित किये नए रिकॉर्ड

सुशांत की मौत के एक साल, मीडिया ट्रायल ने स्थापित किये नए रिकॉर्ड

सुशांत सिंह राजपूत ( Sushant Singh Rajpoot) की मौत को पूरा एक साल हो चुका है। बीते साल 14 जून को बॉलीवुड के अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का शव उनके घर में मिली थी। दरअसल, सुशांत की लाश उनके फ्लैट में पंखे से लटकी हुई मिली थी। जिसके बाद यह दावा किया जा रहा था […]

Read More
 कोर्ट का एक फ़ैसला और चली गई थी इंदिरा की संसद सदस्यता

कोर्ट का एक फ़ैसला और चली गई थी इंदिरा की संसद सदस्यता

भारत की पहली और अभी तक इकलौती महिला प्रधानमंत्री के तौर पर इंदिरा गांधी काफी लोकप्रिय थीं। लोग इंदिरा गांधी को इस कदर चाहते थे कि उनकी कही एक एक बात लोगों के लिए पत्थर की लकीर हो जाती थी। “गरीबी हटाओ” के नारे को इंदिरा ने असल मायनों में काफी हद तक सार्थक किया। […]

Read More
 खूबसूरती के उद्योग में झुलस रहें हैं हजारों बच्चे

खूबसूरती के उद्योग में झुलस रहें हैं हजारों बच्चे

आज अंतरराष्ट्रीय बाल मजदूरी निषेध दिवस की शुरआत करीब दो दशक पहले 2002 में हुई थी। इसकी शुरुआत दुनिया में बाल मजदूरी को रोकने के लिए हुई थी। लेकिन भारत में बाल मजदूरी के मामले आज भी कम नहीं हैं। कहा जाता है कि गरीबी और बाल मजदूरी समांतर चलती हैं। मतलब गरीबी के कारण […]

Read More
 ये थी पंडित नेहरू की आखिरी इच्छा

ये थी पंडित नेहरू की आखिरी इच्छा

आज भारत में हर खराब स्तिथि के लिए सिर्फ नेहरू को जिम्मेदार माना जाता है। पर आज जिस आधुनिक भारत में हम जी रहे हैं, उसके लिए हमे देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का शुक्रगुजार होना चाहिए। जवाहर लाल नेहरू को आधुनिक भारत का जनक कहा जाता है। भारत जिस समय आजाद हुआ […]

Read More