अनूपपुर (7 अक्टूबर 2020): आज मध्यप्रदेश क पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ अनूपपुर में कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह कुंजाम के प्रचार के लिए अनूपपुर में थे। जब कमलनाथ का काफ़िला सभा स्थल की तरफ़ जा रहा था। तब अनूपपुर के भाजपा कार्यकर्ताओं ने कमलनाथ का विरोध करने के दौरान पथराव कर दिया। हालांकि इस पत्थरबाजी से कोई हताहत नहीं हुआ। पर पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान में नेता प्रतिपक्ष के काफिले में यह हमला बड़ी चूक का मामला है।

इस घटना पर कांग्रेस प्रवक्ता अभय दुबे ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा – धनमत की भाजपा सरकार ने गद्दारों को खरीद कर मध्यप्रदेश के संसाधनों को लूटने के लिए सरकार बनायी। मगर समय रहते प्रदेश के आठ करोड़ नागरिकों ने शिवराजसिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस बात का आभास करा दिया कि उनकी अनैतिक सत्ता कुछ ही दिनों की मेहमान है।अपने बयान में कांग्रेस प्रवक्ता ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की सभा में उमड़ रही भीड़ पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा – समूचे मध्यप्रदेश में यशस्वी पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी की जनसभाओं को जिस प्रकार हजारों की संख्या में जनप्रतिसाद मिल रहा है, उससे बौखलाकर शिवराज और महाराज की सत्ता ने अराजकता की सारी हदें पार करते हुए आज अनूनपुर में कमलनाथ जी के काफिले पर पथराव किया।

उन्होंने इस हमले को मध्यप्रदेश और प्रदेश की जनता से जोड़ते हुए कहा – भारतीय जनता पार्टी की इस विकृत मानसिकता की समूचा मध्यप्रदेश भर्त्सना करता है। यह हमला कमलनाथ जी पर नहीं मध्यप्रदेश के विकास की असीम संभावनाओं पर किया गया है। भारतीय जनता पार्टी जब 15 वर्ष सरकार में थी, तब वह अपराधियों के साथ मिलकर मध्यप्रदेश की 46 हजार बेटियों पर इसी प्रकार अराजकता प्रदर्शित करती थी। मध्यप्रदेश के औद्योगिक विकास पर हमलावर होकर उसे अवरूद्व किया था, 48 लाख बच्चों के पोषण आहार पर भ्रष्टाचारी हमला कर उन्हें कुपोषित किया था, बच्चों की शिक्षा से लेकर प्रदेश के स्वास्थ्य सभी पर 15 वर्षों तक भाजपा की यही आक्रामकता प्रदेश को देखने को मिली।

अंत में उन्होंने कर्जमाफ़ी व अन्य वह कार्य जोकि 15 महीने की कमलनाथ सरकार ने किए हैं, उनका ज़िक्र करते हुए कहा – एक तरफ कमलनाथ जी किसानों के लिए कर्जमाफी के फूल बिछाते हैं, दूसरी तरफ शिवराज और महाराज उन पर पत्थर बरसवाते हैं। एक तरफ कमलनाथ जी एक रूपये यूनिट बिजली पहुंचाते हैं, ‘माफिया मुक्ति’ और ‘मिलावट मुक्ति’ का अभियान चलाते हैं, और दूसरे तरफ भाजपाई अराजकता पर उतर जाते हैं। शिवराज और महाराज हार सामने देख बौखलाएं है और गुंडागर्दी पर उतर आये हैं।

 

Avatar
About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *