उत्तर प्रदेश की तैयारियों के मद्देनजर अब राजनीतिक दल पूरी तैयारियों के साथ मौदान में आ रहे हैं। क्या भाजपा,सपा और बसपा सभी राजनीतिक दलों ने अपने अपने पांसे फेंकने शुरू कर दिए हैं। फिलहाल देश भर में चल रहे किसान आंदोलन के मद्देनजर यूपी के राजनीतिक दल किसानों की तरफ भी ध्यान दे रहे हैं।

किसान आंदोलन के सबसे बड़े नेता राकेश टिकैत भी खुल कर सत्ताधारी भाजपा का विरोध कर रहे हैं। जिसका फायदा विपक्षी राजनीतिक पार्टियों को हो रहा है। अब राकेश टिकैत ने विवादित बयान देते हुए असदुद्दीन ओवैसी को भाजपा का चाचाजान बता दिया है। क्या है ये पूरा मामला आइये समझ लेते हैं।

ओवैसी कुछ भी कहेंगें कार्यवाही नहीं होगी।

दरअसल राकेश टिकैत बागपत क्षेत्र में एक जनसभा कर रहे थे,जहां उन्होंने ओवैसी को भाजपा की बी टीम कहते हुए भाजपा का “चाचा” कह दिया है। जिसके बाद नया विवाद भी छिड़ गया है,क्योंकि ओवैसी खुद को हमेशा भाजपा के खिलाफ लड़ता हुए ही दिखाते रहे हैं।

राकेश टिकैत का कहना है कि “किसानों को इनकी (भाजपा और ओवैसी) की चाल समझने की ज़रूरत है। टिकैत ने आगे कहा है कि “भाजपा और ओवैसी की मिलीभगत है,ओवैसी भाजपा का चाचा जान है,ये उसका (ओवैसी) के सहारा लेंगें, वो गाली देगा लेकिन ये कोई भी मुकदमा दर्ज नहीं करेंगे”

इसके बाद टिकैत ने कहा है कि “ओवैसी यहां (उत्तर प्रदेश) आ चुका है और किसानों को बदनाम करेगा ,ये सब ए और बी टीम हैं,इनकी चाल समझने की ज़रूरत है आपको , ये लोग षडयंत्र रचेंगे”

इससे पहले अब्बाजान कहा गया था।

राकेश टिकैत से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि “पहले यूपी में सभी को राशन नहीं मिलता था क्यूंकि पहले “अब्बाजान” कहने वाले सभी राशन खा जाते थे। आज राकेश टिकैत ने ओवैसी को “चचाजान” का बयान देते हुए नई बहस छेड़ते हुए राजनीती गर्मागर्मी बढ़ा दी है।

About Author

Asad Shaikh