Uncategorized

जीत के बाद भी कोच और कप्तान से आखिर क्यूं नाराज है बीसीसीआई

जीत के बाद भी कोच और कप्तान से आखिर क्यूं नाराज है बीसीसीआई

टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट में 50 साल बाद ओवल में जीत हासिल की है। फिर भी ये जीत बीसीसीआई को रास नहीं आ रही। इंग्लैंड और भारत के बीच चौथे टेस्ट मैच की दूसरी पारी में रोहित शर्मा के शतक के बाद शार्दुल ठाकुर के बल्ले और गेंद से शानदार प्रदर्शन ने धमाकेदार जीत हासिल की है। इंग्लैंड को 157 रनों से हराया है।

आखिरी धमाकेदार टेस्ट सीरीज जीत-

आपको यह भी बता दें कि आखिरी बार भारत ने केनिंग्टन ओवल लंदन में 1971 में अजीत वाडेकर की कप्तानी में जीत हासिल की थी। चौथा टेस्ट जीतने के बाद भारत ने पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में सीरीज में 2-1 से बढ़त हासिल कर ली है।

बीसीसीआई की नाराजगी जायज है-

इस सुनहरी जीत के बाद भी बीसीसीआई विराट कोहली और रवि शास्त्री से खफा है। और उनका खफा होना भी जायज है । पिछले हफ्ते लंदन में एक होटल में हुए बुक समारोह में क्रिकेट खेल जगत के हेड कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली समेत टीम इंडिया के अन्य खिलाड़ी भी उस आयोजन में शामिल हुए थे, जिसमें खचाखच भीड़ थी। इस इवेंट में शास्त्री और कोहली दोनों स्टेज पर भी गए। बीसीसीआई के सूत्रों के मुताबिक भारतीय टीम ने कार्यक्रम में शामिल होने से पहले किसी भी प्रकार की उचित अनुमति नहीं ली थी।

रविवार को रवि शास्त्री की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद से ही बीसीसीआई में खलबली मच गई है। क्योंकि लगातार तीन ओर खिलाड़ी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके साथ ही बॉलिंग कोच भारत अरुण और श्रीधर इनको 10 दिन के लिए आइसोलेट कर दिया गया है। वही नितिन पटेल को भी एहतियातन आइसोलोशेन में भेज दिया गया है। कोहली और शास्त्री की इस लापरवाही ने पूरी टीम को संकट में डाल दिया है।

कोच और कप्तान से किये जाएंगे सवाल 

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया की “इवेंट की तस्वीरें बीसीसीआई को भेजी गई थीं। इस घटना से हमें काफी शर्मसार किया है। अब बीसीसीआई इस मामले पर कार्यवाही करेगा। साथ ही कोच और कप्तान से ओवल टेस्ट के बाद जवाब मांगा जाएगा।

एडमिनिस्ट्रेटिव मैनेजर गिरीश डोंगरी के रोल पर भी सवाल उठ रहे हैं। बुधवार को t20 वर्ल्ड कप के लिए टीम सिलेक्शन मीटिंग है। मुमकिन है कि मीटिंग में ही कोहली और शास्त्री से सवाल किए जाए”।

ब्रिटिश मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय टीम ने इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) से भी मंजूरी नहीं मांगी थी। क्योंकि बीसीसीआई ईसीबी के संपर्क में है। टूरिंग पार्टी के किसी भी सदस्य को घूमने के लिए उन जगहों पर अनुमति दी गई थी, जहां पर भीड़भाड़ ना हो। लेकिन बोर्ड को खिलाड़ियों की ऐसी हरकत से हैरान है। उनका कहना है कि यह आयोजन कोई जरूरी नहीं था। जिसमें आपका शामिल होना बेहद जरूरी हो । 

क्योंकि ये इवेंट दोनों बोर्ड में से किसी ने भी आयोजित नहीं किया था। इस मुद्दे पर अगला बयान बीसीसीआई सचिव जय शाह ने कहा है कि, सीरीज से पहले ही  सभी टीम मेंबर्स को   सतर्क रहने के लिए और भीड़भाड़ जगह से बचने के लिए खत लिखकर आगाह किया गया था। 

जरूरी नहीं इवेंट में जाने से ही हुआ हो कोरोना 

शास्त्री के बीमार होने के पीछे यह भी कयास लगाया जा रहा है कि जरूरी नहीं है कि इवेंट में जाने से ही उन्हें कोरोना हुआ हो। भारतीय टीम जिस होटल में रुकी थी उसकी लिफ्ट का प्रयोग हर खिलाड़ी करता है। उसी लिफ्ट से अन्य लोग भी आते-जाते हैं। हो सकता है ऐसी ही किसी वजह से संक्रमण फैल गया हो। जबकि बोर्ड को यही लगता है कि आयोजन से बचा जा सकता था। क्योंकि टीम को पहले ही सख्त निर्देश दे दिए गए थे।

हालांकि इस घटना के बाद अब मैनचेस्टर में इंग्लैंड और टीम इंडिया को सख्त नियमों का सामना करना पड़ेगा। मीडिया रिपोर्ट की माने, तो मैनचेस्टर में बायोबबल बेहद सख्त रहेगा। इस टेस्ट के 5 दिन बाद आईपीएल भी शुरू हो रहा है और यूएई में होने वाले इस टूर्नामेंट में भी प्लेयर्स बायोबबल में ही जाएंगे।

About Author

Nidhi Arya