न्यूज़ीलैंड के क्राईस्टचर्च शहर की दो मस्जिदों में हुए आतंकवादी हमले के बाद से पूरी दुनिया स्तब्ध है, दरअसल न्यूज़ीलैंड एक बेहद ही शांतिप्रिय देश माना जाता है. एक ऑस्ट्रेलियाई श्वेत दक्षिणपंथी आतंकवादी द्वारा किये गए इस हमले में 49 लोगों की मृत्यु हुई और लगभग 20 लोग घायल हैं. हमलावर ने एक हैलमेट पहना हुआ था और उसपर कैमेरा लगाया हुआ था. जिससे वह फ़ेसबुक और इन्स्टाग्राम पर इस हमले की लाईव स्ट्रीमिंग कर रहा था, जोकि बेहद ही भयावह था.

एक तरफ़ इस हमले की पूरी दुनिया में निंदा हो रही है, तो वहीं दूसरी तरफ़ इस्लामोफ़ोबिया से ग्रस्त लोग इस हमले पर अपनी ख़ुशी व्यक्त करने से पीछे नहीं रह रहे हैं. कुछ दक्षिणपंथी विचारधारा के लोग तो बाक़ायदा वीडियो बनाकर इस हमले को जस्टिफाई करने की कोशिश करते नज़र आ रहे हैं.

हमले को जस्टीफ़ाई कर रहे ऑस्ट्रेलियाई सांसद का हुआ विरोध

एक ऑस्ट्रेलियाई सांसद द्वारा जब मीडिया के सामने इस आतंकी हमले को सही ठहराने की कोशिश हुई, तो एक ऑस्ट्रेलियाई किशोर ने सांसद के सर पर अंडा फोड़कर विरोध जताया. जिसके बाद सांसद और उस किशोर के बीच हल्की फुल्की झड़प भी हुई. आर सुरक्षा गार्ड और वहां मौजूद लोगों के द्वारा दोनों को अलग किया गया. बाद में उस किशोर को पुलिस के द्वारा छोड़ दिया गया.

भारतीय दक्षिणपंथी भी नहीं हैं पीछे

इस पूरे मामले में बेहद ही घिनौना रूप भारतीय दक्षिणपंथी विचारधारा से जुड़े लोगों का सामने आया. पूरा सोशलमीडिया दक्षिणपंथी विचारधारा से जुड़े लोगों की घटिया मानसिकता के खिलाफ एक जुट नज़र आया. दरअसल जिस तरह से इस हमले पर ख़ुशी व्यक्त करते हुए, भारत में भी ऐसे हमले करने की बात करते लोगों के कमेन्ट यह दर्शा रहेहैं, कि इस्लामोफ़ोबिया किस हद्द तक भारतीय जनमानस में समां गया है. किस तरह से ओपन प्लेटफोर्म में हिंसा की बात की जा रही है, अर्थात लोगों के अंदर से क़ानून का भय समाप्त हो चुका है.

ऐसे बहुत से घृणा फैलाने वाले कमेंट्स के स्क्रीनशॉट सोशलमीडिया में फ़ैल रहे थे, हमने ऐसी ही कुछ घटिया मानसिकता के साथ कमेंट करने वालों की पड़ताल की, आखिर कौन हैं ये लोग? जो इस तरह की मानसिकता का प्रदर्शन कर समाज और देश के लिए खतरा बने हुए हैं.

राजस्थान पुलिस में कार्यरत इस पुलिसवाले की सोच पर तरस आता है

हमारी नज़र में एक स्क्रीनशॉट आया जिसमें महावीर परिहार नामक व्यक्ति जोकि पुलिस की कैप लगाया हुआ था, बल्कि पुलिस की ड्रेस में था और नफ़रत फैलाने वाली भाषा का उपयोग करके कमेन्ट कर रहा था. देखें स्क्रीनशॉट और उस कमेन्ट की गंदगी पर गौर करें –

हमने महावीर की फ़ेसबुक आईडी को खंगाला, महावीर की फ़ेसबुक आईडी में साफ़ साफ़ लिखा है कि वो राजस्थान पुलिस में कार्यरत है. माऊंट आबू का रहने वाला है और राजस्थान के सिरोही में रहता है. tribunehindi.com ने राजस्थान पुलिस को ट्वीटर में मेंशन करते हुए उनके इस कर्मचारी के कृत्य की जानकारी ट्वीट के ज़रिये दे दी है.

भाजपा के समर्थन में ट्वीट करने वाला हिंदुत्ववादी लेख़क, पब्लिक स्पीकर और अधिवक्ता द्वारा घटना को सही साबित करने कोशिश करता वायरल वीडियो

एक वीडियो भी सोशलमीडिया में वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति न्यूज़ीलैंड में हुए इस आतंकी हमले को सही ठहराने की कोशिश करता नज़र आता है, अपने वीडियो में वह शख्स इस आतंकी हमले को रक्षात्मक क्रिया बता रहा है. साथ ही वह इसे क्रिया की प्रतिक्रिया बताने की कोशिश कर रहा है. साथ ही एक चेतावनी भी दे रहा है. इस वीडियो का सबसे घिनौना हिस्सा वही है, जहाँ पर यह व्यक्ति चेतावनी शब्द का उपयोग कर रहा है.

इस व्यक्ति की ट्वीटर प्रोफ़ाईल चैक करने पर हमें इसका नाम पता चला. ट्वीटर में जो जानकारी है उसके मुताबिक नफ़रत फ़ैलाने वाले इस व्यक्ति का नाम प्रशान्त पटेल उमराव है. जोकि एक एडवोकेट है, इसके ट्वीटर बायो के मुताबिक़ यह एक पब्लिक स्पीकर भी है.

उत्तरप्रदेश के फ़तेहपुर का रहने वाले इस शख्स के वीडियो को जिस ट्वीटर हैंडल से शेयर किया गया है, वो हैंडल हैंडल @AhmAsmiYodha है. इस हैंडल की कवर पिक में एक पोस्टर लगा हुआ है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाथ जोड़े खड़े हुए हैं. राईट साईड कोने में मोदी ब्रिगेड का लोगो लगा हुआ है. उसके बाद कुंभ 2019 लिखा हुआ है. पीएम मोदी के लेफ्ट साईड में लिखा हुआ है- दिल से मोदी- फ़िर से मोदी.

इस हैंडल के बायो में लिखा है – धर्मो रक्षति रक्षितः , उसके बाद एड्रेस में लिखा है भगवान राम के चरणों में. इस ट्वीटर हैंडल को चैक करने पर इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के समर्थन में ट्वीट मिलेंगे.

जब हमने प्रशान्त पटेल उमराव की ट्वीटर वाल को चैक किया तो, न सिर्फ भाजपा के समर्थन में बल्कि भाजपा और पीएम मोदी का विरोध करने वालों के विरोध में आपत्तिजनक भाषा के साथ ट्वीट मिल जायेंगे. ऐसे में अंदाज़ा लगाया जा सकता है, कि इस्लामोफोबिया से ग्रसित यह व्यक्ति किस हद तक दूषित मानसिकता से देश व समाज को नुक्सान पहुंचा रहा है.

और भी बहुत से नफ़रत फैलाने वाले कमेन्ट बहुतायात में सोशल मीडिया में देखने को मिल रहे थे. उन्हें देखकर और पढ़कर आपको एक पल के लिए गुस्सा आ सकता है. पर आप इनमें से अधिकतर में से जिसकी भी प्रोफ़ाईल में जायेंगे आपको एक चीज़ कॉमन मिलेगी. सभी के सभी हिंदुत्व का झंडा उठाये हुए हैं. कुछ ही ऐसे लोग थे जो भाजपा विरोधी थे, पर अधिकतर वहीं थे जो  भाजपा और नरेंद्र मोदी के समर्थन में लिख रहे हैं. ऐसे में ये बात साफ़ हो जाती है, कि आखिर हिंदुत्व का झंडा उठाये इन लोगों के दिल व दिमाग में इतना ज़हर आया कहाँ से ? कौन हैं, वो लोग जो इनके मन और मस्तिष्क को दूषित कर रहे हैं?

खुद को नास्तिक बताने वाले आप समर्थक ने पार कर दीं सारी हदें

हरी सिंह नाम के इस शख्स ने आतंकवादी हमले के विरोध में कमेन्ट किया पर कमेन्ट करते हुए उसने सारी हदों को पार करते हुए घटिया कमेन्ट किया. इस शख्स की प्रोफ़ाईल चैक करने में ये पाया गया कि ये मोदी सरकार का परम विरोधी व्यक्ति है. भाजपा को पसंद नहीं करता, हिंदू मुस्लिम झगड़ों के खिलाफ बोलता है. पर यूपी के मेरठ के रहने वाले हरी सिंह ने कमेन्ट करते हुए अपना आपा खो दिया और एक ऐसा कमेंट कर बैठे, जो शायद उन्हें नहीं करना चाहिये था.

भाजपा व अतिदक्षिणपंथी संगठन हिंदू युवा वाहिनी का कार्यकर्ता मना रहा था जश्न

उत्तरप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के अलावा बजरंग दल और हिन्दू युवा वाहिनी जैसे अति दक्षिणपंथी संगठन भी काफी निचले स्तर तक ज़हर फ़ैलाने में कामयाब रहे हैं. दरअसल ये बात सभी जानते हैं, पर हम यहाँ पर ये बात इसलिए कर रहे हैं. क्योंकि एक  आपत्तिजनक कमेन्ट करने वाली आईडी की जब हमने पड़ताल की तो हमें जो मिला. वो वर्तमान भारत में फ़ैल चुके ज़हर का वास्तविक नमूना था.

क्षत्रीय प्रशान्त सिंह सेंगर नामक आईडी को हमने फ़ेसबुक पर शेयर किया, अति उत्तेजित और भड़काऊ पोस्ट करने वाली उत्तरप्रदेश के बलिया ज़िले की है, साथ ही इसका संचालन करने वाला व्यक्ति रसड़ा नामक स्थान पर रहता है. इस आईडी के बायो में 2019 के चुनावों में भाजपा के मिशन बंगाल और उड़ीसा का ज़िक्र है, जिसके मुताबिक दोनों राज्यों को मिलाकर 45 सीटें जीतने का लक्ष्य भाजपा के द्वारा रखा गया है.

उस व्यक्ति की फ़ेसबुक आईडी को सर्च करने पर हमें पता चला कि यह व्यक्ति हिंदू युवा वाहिनी और भाजपा दोनों ही से जुड़ा हुआ है. इस व्यक्ति की वाल देखने पर पता चलता है, कि यह भाजपा के समर्थन में पोस्ट करता है. साथ ही कई जगह अपनी भद्दी भाषा का उपयोग करते हुए विरोधी पार्टियों और धर्म विशेष के लोगों को टार्गेट करता है. सबसे आपत्तिजनक चीज़ यह थी, कि यह व्यक्ति खुलेआम हथियार , बंदूक की तस्वीरें पोस्ट करता रहता है.

ऐसे अपतिजनक कमेन्ट करने वालों की एक बड़ी तादाद है, जोकि न्यूज़ीलैंड में हुए आतंकी हमलों पर जश्न मन रहे थे. अगली रिपोर्ट में हम और भी चहरे बेनकाब करेंगे. तब तक आप उन स्क्रीनशॉट को देखकर उस दूषित मानसिकता को पहचाने और देखें की हमारा देश किस तरफ़ जा रहा है.

यदि आपको हमारी यह रिपोर्ट पसंद आई हो तो इसे ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करें, हमारा फ़ेसबुक पेज लाईक करें, ट्विटर पर हमें फ़ॉलो करें और हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राईब करें.