खेल

टोक्यो ओलंपिक भारत के नाम हुआ पहला मेडल

टोक्यो ओलंपिक भारत के नाम हुआ पहला मेडल

टोक्यो में चल रहे ओलंपिक (Tokyo Olympic) से भारत के लिए अच्छी खबर आई है। 49 किलोग्राम कैटेगिरी की वेटलिफ्टिंग प्रतियोगिता में मीराबाई चानू (Meerabai chanu) ने सिल्वर मेडल (Silver medal) जीत कर देश का नाम रोशन कियाहै। टोक्यो ओलंपिक में भारत की तरफ से मेडल जीतने वाली पहली खिलाड़ी बन गई हैं।

चानू की इस सफलता पर पूरे देश में जश्न का माहौल है

मीराबाई चानू को सिल्वर पदक जीतने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बधाई भी दी है। उन्होंने ट्वीट में चानू को बधाई देते हुए कहा कि इससे अच्छी शुरूआत नहीं हो सकती, भारत उनके शानदार प्रदर्शन से उत्साहित है, उनकी सफलता हर भारतीय को प्रेरित करती है।

21 साल का सूखा खत्म

मीराबाई चानू ने ओलिंपिक खेलों की वेटलिफ्टिंग प्रतियोगिता में भारत का 21 सालों का सूखा खत्म किया है। अब 21 साल बाद भारत ने वेटलिफ्टिंग में सिल्वर पदक अपने नाम किया है। चानू ने क्लीन एवं जर्क में 115 किग्रा और स्नैच में 87 किग्रा से कुल 202 किग्रा वजन उठाकर सिल्वर पदक जीता है।

इससे पहले कर्णम मल्लेश्वरी ने सिडनी ओलंपिक में दो दशक पहले देश को वेटलिफ्टिंग में कांस्य पदक हासिल किया था। फिलहाल टोक्यो ओलंपिक में चीन की होऊ झिऊई ने कुल 210 किग्रा (स्नैच में 94 किग्रा, क्लीन एवं जर्क में 116 किग्रा) से स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इसके अलावा इंडोनेशिया की ऐसाह विंडी कांटिका ने कुल 194 किग्रा का वजन उठाकर कांस्य पदक हासिल किया है।

2017 में जीती थी वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप

मीराबाई ने 2017 में वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप की 48 किलो वाली कैटेगिरी में चैंपियन बनी थीं। उन्होंने इसी साल अप्रैल में में 86 किलो स्नैच और वर्ल्ड रेकॉर्ड 119 किलो वजन उठाकर यह खिताब जीता था। उन्होंने कुल 205 किलो वजन उठाकर ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया था।

रियो ओलंपिक रहा निराशाजनक

चानू के लिए 2016 का रियो ओलिंपिक काफी निराशाजनक रहा। हालांकि इसके बाद उन्होंने जमकर मेहनत की, और अपने प्रदर्शन में लगातार सुधार किया। उन्होंने 2017 में वर्ल्ड चैंपियनशिप और 2018 में कॉमनवेल्थ में गोल्ड मेडल जीता था।

About Author

Heena Sen