क्या मुस्लिमों के प्रति नफ़रत का ज़हर बो रहा है “ज़ी न्यूज़” ?

क्या मुस्लिमों के प्रति नफ़रत का ज़हर बो रहा है “ज़ी न्यूज़” ?

जिस वक़्त पूरी दुनिया कोरोना वायरस के ख़तरे से बचने के लिये नए नए उपाय तलाश रही थी, उस वक़्त भारतीय मीडिया का एक धड़ा मुस्लिम दुश्मनी में अंधा होकर अपने ही देश के नागरिकों के खिलाफ नफरत फैलाने में व्यस्त था। सुधीर चौधरी नाम का बौद्धिक आतंकवादी एक वर्ग विशेष को मुसलमानों और सेक्यूलरों […]

Read More
 नज़रिया – यह नागरिकता का प्रकल्प, हिटलर की हूबहू नकल है

नज़रिया – यह नागरिकता का प्रकल्प, हिटलर की हूबहू नकल है

सब जानते हैं, एनपीआर एनआरसी का मूल आधार है। खुद सरकार ने इसकी कई बार घोषणा की है। एनपीआर में तैयार की गई नागरिकों की सूची की ही आगे घर-घर जाकर जाँच करके अधिकारी संदेहास्पद नागरिकों की सिनाख्त करेंगे और सभी को इस सिनाख्त के आधार पर पहचान पत्र दिये जाएँगे। यह पूरा प्रकल्प हुबहू […]

Read More
 नज़रिया – इंतज़ार कीजिये, भीड़ आपके दरवाज़े पर कब दस्तक देती है

नज़रिया – इंतज़ार कीजिये, भीड़ आपके दरवाज़े पर कब दस्तक देती है

इतिहास साक्षी है के प्रथम विश्व युद्ध के बाद यूरोप में अराजकता का चरम था. युद्ध के बाद अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो चुकी थी. युवा वर्ग बेरोज़गारी के कारण बदहवास था और वर्तमान सत्ता से निराश आम जनों का विश्वास लोकतंत्र पर कमज़ोर हो रहा था. विरोध के स्वर उठ रहे थे. प्रदर्शन हड़तालों की सिलसिला […]

Read More
 आपकी नज़र में आतंकवाद की परिभाषा क्या है ?

आपकी नज़र में आतंकवाद की परिभाषा क्या है ?

कल दोस्तों से बात हो रही थी और किसी ने कहा कि आज तक यूएन ने आतंकवाद की कोई एक और सुनिश्चित परिभाषा नहीं दी है। लेकिन 9/11 के बाद तो जैसे दुनिया भर की मीडिया ने अपनी परिभाषा तय कर ली है – हिंसा का सहारा लेने वाले मुसलमान आतंकवादी हैं जबकि दूसरे धर्म […]

Read More
 क्या राजनीति में अपना प्रतिनिधित्व मज़बूत कर पाएंगे मुसलमान?

क्या राजनीति में अपना प्रतिनिधित्व मज़बूत कर पाएंगे मुसलमान?

बिहार में लालू और यूपी में मायावती के आने से पहले यादवों और दलितों के हालात पर ज़रा ग़ौर कीजिये, पहले यह दोनों समाज के लोगों का सवर्णों ने जम कर प्रताड़ित किया, शोषण किया, हालात तो यह थे के यह लोग स्वर्ण जाती के साथ बैठना तो दूर की बात, खड़े भी नहीं हो […]

Read More
 क्या भारतीय मुस्लिम "राजनीतिक अछूत" हो गए हैं ?

क्या भारतीय मुस्लिम "राजनीतिक अछूत" हो गए हैं ?

दोस्तों के साथ बैठा बैठा ये बात कर रहा था, कि मुल्क कितना बदल गया है. अब हर चीज़ हिंदू -मुस्लिम करने की कोशिश की जाने लगी है. आखिर इसका ज़िम्मेदार कौन है ? खूब बातें हुईं अलग-अलग नतीजे निकले – किसी ने कहा नेता लोग अपने बयानों से ये माहौल बना चुके हैं. तो […]

Read More
 नज़रिया – बदले बदले से मोहन भागवत, आखिर माजरा क्या है ?

नज़रिया – बदले बदले से मोहन भागवत, आखिर माजरा क्या है ?

संघ प्रमुख मोहन भागवत का भाषण चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग उनके भाषण के निहितार्थ निकालने में लगे हैं। जिनका संघ के बारे में अध्ययन नहीं है, वे इसे संघ में बदलाव की संज्ञा दे रहे हैं। लेकिन न संघ बदला है, न ही कभी बदलेगा। दरअसल मोहन भागवत के भाषण को उसके […]

Read More
 आखिर संघ परिवार में चल क्या रहा है ?

आखिर संघ परिवार में चल क्या रहा है ?

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के कथनों का क्या मतलब है, यह मुझे नहीं मालूम। बहुत लोगों को मालूम नहीं होगा। खुद संघियों को भी नहीं मालूम होगा कि भागवत की बातों का मतलब क्या है? क्या वह सरकार से नाराजगी जाहिर कर रहे हैं? क्या वह कांग्रेस पर डोरे डाल रहे हैं? क्या मुसलमानों को […]

Read More
 यह अध्यादेश असंवैधानिक है. यही नहीं संविधान के समानता के अधिकार के खिलाफ है – ओवैसी

यह अध्यादेश असंवैधानिक है. यही नहीं संविधान के समानता के अधिकार के खिलाफ है – ओवैसी

तीन तलाक को दंडनीय अपराध बनाने संबंधी अध्यादेश को बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है. अध्याधेश को मंज़ूरी देने के बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद मीडिया से मुखातिब हुए. उन्होंने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मीडिया ने इस मामले को विस्तार से छापा है. इस दौरान कांग्रेस को निशाने पर […]

Read More
 Silencing is a hate crime too…

Silencing is a hate crime too…

People know a lot about discrimination in judiciary, media, government, banks, universities, corporate houses and other sectors. But not many know about discrimination that happens in civil society on the issue of Muslims. My attempt today is to describe what happens to a young activist who attempts to speak as a Muslim. I dare to […]

Read More