एनएसए या राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून (रासुका) क्यों लगाया जाता है?

एनएसए या राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून (रासुका) क्यों लगाया जाता है?

गौहत्या एक संवेदनशील अपराध है और इसके दुष्परिणाम कानून व्यवस्था पर बहुत तेज़ी से पड़ते रहे हैं, तब भी जब इसका राजनीतिकरण नहीं हुआ था और अब भी जब इसका राजनीतिकरण हो गया है । इसकी संवेदनशीलता को देखते हुए ही 1857 में हुये जन विप्लव के बाद जब अंतिम मुग़ल सम्राट बहादुरशाह जफर को […]

Read More
 डरता हूँ कि कहीं इस डर से लोग सच बोलना न बंद कर दें

डरता हूँ कि कहीं इस डर से लोग सच बोलना न बंद कर दें

एक साया सा फ़ैल गया है हर सिम्त दिल के भीतर / और वहीं बैठ गया है चुपचाप आजकल एक डर मन करता है उस डर को उलीच दूँ यहां पर डर को उलीचना और भी ज्यादा डर से भर जाना है. सामने पार्क में खेलता बच्चा जोर से हंसता है और मैं उसकी हंसी […]

Read More
 क्या अभिनेता एजाज़ खान की मांग गलत थी, या फिर बेवजह हुआ विरोध

क्या अभिनेता एजाज़ खान की मांग गलत थी, या फिर बेवजह हुआ विरोध

मुंबई :- आये दिन देश में गौरक्षा के नाम पर हो रही हत्याओं पर देश में बवाल मचा हुआ है, कभी भी उन्मादी भीड़ या चंद गुंडागर्दी करने वाले लोग किसी को भी गौरक्षा के नाम पर पीट दे रहे थे. हद्द तो तब होने लगी जब गौहत्या के नाम पर हत्याओं का दौर चल […]

Read More