January 23, 2022
बॉलीवुड

गायिका लता मंगेशकर को हुआ कोरोना, ICU में हैं भर्ती

गायिका लता मंगेशकर को हुआ कोरोना, ICU में हैं भर्ती

गायिका लता मंगेशकर को कोरोना हुआ है और वो फिलहाल मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती हैं। गुरुवार (13 जनवरी) को अस्पताल ने उनकी हेल्थ रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के मुताबिक लता मंगेशकर की तबियत में हल्का सुधार है लेकिन उनकी उम्र को देखते हुए उन्हें आईसीयू में ही रखा जाएगा।

बता दें कि लता मंगेशकर 2019 से अपने घर से बाहर नही निकली हैं। हाल फिलहाल में उनके घर के नोकर की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उनकी रिपोर्ट करवाई गई, जो पॉजिटिव निकली। तब से लता मंगेशकर ब्रीच कैंडी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती हैं।

कोरोना काल में घर से बाहर नहीं निकली :

रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्वर कोकिला लता मंगेशकर को साल 2019 में सांस लेने में तकलीफ़ हुई थी जब उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इसके बाद से लेकर अब तक वो अपने घर से बाहर नहीं निकली हैं।

अब वो कोरोना पॉजिटिव हैं और ब्रीच कैंडी अस्पताल के ICU में उन्हें रखा गया है। डॉक्टरों का कहना है कि लता मंगेशकर ठीक हो जाएंगी लेकिन उनकी उम्र के कारण थोड़ा वक्त लग सकता है।

ऑब्सर्वेशन में रखा जाएगा :

गुरुवार को अस्पताल ने जो हेल्थ बुलेटिन जारी किया है उसके मुताबिक डॉक्टर प्रतीत समदानी ने कहा है, लता मंगेशकर ICU में ही हैं। हालांकि उनकी तबियत में कुछ सुधार हुआ है। डॉक्टरों ने बताया है कि उन्हें कोरोना के साथ निमोनिया भी हुआ है। उनकी उम्र को देखते हुए डॉक्टरों की सलाह है कि उन्हें विशेष ध्यान की ज़रूर है इसलिए उन्हें ICU में रखा गया है। उन्हें 7 से 8 दिन के लिए ऑब्सर्वेशन में भी रखा जाएगा।

92 साल की हैं लता मंगेशकर :

लता मंगेशकर को स्वर कोकिला भी कहा जाता है। उन्होंने सात दशकों तक अपनी आवाज़ से संगीत में जान फूंकी है। उन्होंने, अनेक भाषाओं में 30 हज़ार से अधिक गाने गाए हैं। उनका जन्म 1929 में हुआ था और फिलहाल उनकी उम्र 92 साल है।

Lata mangeshkar (image : social media)

2001 में लता मंगेशकर को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से नवाजा गया था।
1989 में दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया था। उन्हें पद्म विभूषण, लाइफ़ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड और मिर्ची म्यूजिक लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड, फिल्मफेयर जूरी अवॉर्ड, जी सीने लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से नवाज़ा जा चुका है।



About Author

Sushma Tomar