हादसे के पहले रावन दहन के कार्यक्रम में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री नवजोत कौर सिद्धू अतिथि के रूप में आमंत्रित थीं. नवजोत कौर सिद्धू के मुताबिक – 15 मिनट बाद  जब वो घर पहुंची  भी नहीं थीं. तब उन्हें फोन के ज़रिये घटना की जानकारी मिली. जिसके तत्काल बाद वो अस्पताल की तरफ़ रवाना हो गईं.

नवजोत कौर सिद्धू ने घायलों का किया इलाज

ज्ञात होकि नवजोत कौर सिद्धू पेशे से सर्जन भी हैं, इसलिए उन्होंने अस्पताल पहुंचकर घायलों के इलाज को प्राथमिकता देते हुए पूरी रात अस्पताल में व्यतीत की. मरीजों की देखभाल के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने विपक्ष (भाजपा और NDA ) द्वारा लगाए आरोपों का जवाब देते हुए मीडिया से बातचीत में कहा. कि इस मुद्दे पर राजनीति करने वालों को शर्म आनी चाहिये.

मुझे जैसे ही घटना का पता चला मैं अस्पताल आई, ताकि घायलों का इलाज कर सकूं. मैं और मेरे वालंटियर्स की टीम यहाँ पर घायलों की मदद कर रहे हैं. जिन्हें खून की आवश्यकता है, उन्हें खून देने के लिये वालंटियर्स मौजूद  हैं.

नवजोत कौर सिद्धू ने पूरी रात किया घायलों का इलाज

कनाग्रेस विधायक और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू के बारे में बताया कि उन्होंने पूरी रात घायलों का इलाज किया है. उन पर आरोप लगाने वालों को सोचना चाहिए कि वो ई९श्र हादसे पर राजनीति कर रहे हैं. सिद्धू ने इस घटना पर राजनीति न करने की अपील की और रेल मंत्री का शुक्रिया ऐडा किया.