बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने मंगलवार को बड़ा आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश में महाराष्ट्र के मकोका (महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्टकी तर्ज पर बनाये गये यूपीकोका (उत्तर प्रदेश कंट्रोल ऑफ आर्गेनाइज्ड क्राइम एक्टका इस्तेमाल सर्वसमाज के गरीबोंदलितोंपिछड़ों और धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ होगा.

उन्होंने कहा कि इस कारण बसपा इस नए कानून का विरोध करती है तथा व्यापक जनहित में इसे वापस लेने की मांग करती है. मायावती ने एक बयान में आरोप लगाया कि प्रदेश में वर्तमान में भाजपा सरकार की द्वेषपूर्ण और जातिवादी नीति के कारण पूरे प्रदेश में कानून का बहुत बड़े पैमाने पर गलत इस्तेमाल हो रहा है और खासकर निर्दोष दलितोंपिछड़ों और अन्य को झूठे मामलों में जेल भेजा जा रहा है.

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा अपराधियों और माफियाओं को चिह्नित करने का जो काम किया गया हैउसमें भी इसी प्रकार का राजनीतिक द्वेष और जातिगत भेदभाव किया गया है.

इससे प्रदेश सरकार की असली मंशा बेनकाब हो जाती है और यह आशंका प्रबल होती है कि यूपीकोका का अनुचित और राजनीतिक इस्तेमाल अवश्य ही किया जाएगा. मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून का बहुत अधिक दुरुपयोग हो रहा है. अगर यह सब नहीं रुका तो बसपा को अन्ततकोई न कोई कठोर रास्ता अपनाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा.

ज्ञात रहे कि, उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में गैंगस्टरमाफियाओं और संगठित अपराध पर नकेल कसने के मकसद से मंगलवार को विधानसभा में उत्तर प्रदेश संगठित अपराध नियंत्रण विधेयक 2017 पेश किया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रश्नकाल के तुरंत बाद सदन में विधेयक पेश किया.

About Author

सुभाष बगड़िया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *