14 मार्च 2019: कर्णाटक में कांग्रेस और जेडीएस के बीच सीटों को लेकर समझौता हो गया है. इस समझौते के बाद सीटों के हुए बंटवारे में 20 सीटों पर कांग्रेस तो 8 सीटों पर जेडीएस चुनाव लड़ेगी. इस समझौते में सबसे चौकाने वाली बात यह रही कि कांग्रेस ने अपनी जीती हुई सीट तुमकुर जेडीएस को दे दी तो जेडीएस ने मैसूर सीट कांग्रेस के खाते में दे दी है.

ज्ञात होकी कर्नाटक में हुए विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस और जेडीएस में गठबंधन हुआ था. जिसके बाद कांग्रेस ने जेडीएस के कुमारास्वामी को समर्थन देकर मुख्यमंत्री बनावाने में अहम भूमिका अदा की थी. विधानसभा चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. पर बहुमत से दूर रहने के कारण वह सत्ता तक नहीं पहुँच पाई थी.

ऐसा बताया जाता है, कि कई बार भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के द्वारा कर्णाटक की सरकार गिराने की कोशिशें हो चुकी हैं. इसी सिलसिले में येदुरप्पा के ऊपर आरोप लग चुके हैं. जिसका उन्होंने कई बार इनकार भी किया है. पर एक ऑडियो टेप आने के बाद उन्होंने पहले इनकार किया और बाद में क़ुबूल किया कि ये आवाज़ उन्ही की है.

येदुरप्पा ने कुछ दिन पहले ही कर्नाटक की 22 सीटें जीतने का दावा भी किया है. अब देखना ये है कि लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद कौन बाज़ी मारता है. कांग्रेस जेडीएस गठबंधन या बीजेपी ?