राजस्थान में 2018 में हुए विधानसभा चुनावों के बाद से कांग्रेस पार्टी पूरे देश भर में अपनी खोई हुई सीटों को धीरे – धीरे वापस पाने में सफल हो रहे है। कांग्रेस के अशोक गहलोत 2018 से लगातार बतौर सीएम अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी से ही युवा नेता और राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को लोग काफी पसंद करते है। वह एक लोकप्रिय नेता है। मगर गहलोत और पायलट के बीच हुए मतभेदों के कारण हाल ही में एक बाप – बेटे के रिश्ते में खटास आ गई है।

बेटे ने बाप के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत

राजस्थान कांग्रेस में विश्वेंद्र सिंह और अनिरुद्ध सिंह के बाप – बेटे के रिश्ते में खटास आ गई है। बेटे अनिरुद्ध ने पिता विश्वेंद्र के खिलाफ एक शिकायत दर्ज करवाई है। अनिरुद्ध ने आरोप लगाया है कि अगर उनके साथ कोई भी अनहोनी होती है तो उसके जिम्मेदार पिता विश्वेंद्र होंगे।

अनिरुद्ध ने अपने शिकायत पत्र में लिखा है कि, “कुम्हेर विधायक विश्वेंद्र सिंह की कोर कमेटी मुझे जान से मारने की धमकी दे रही है। कृपया इस पर संज्ञान ले। अगर मुझे कोई शारीरिक क्षति होती है तो उसके जिम्मेदार यह लोग ही होंगे।”

उन्होंने इस शिकायत पत्र की कॉपी आईजी प्रसन्न कुमार खमेसरा, डीजी मालिनी अग्रवाल, एसपी देवेंद्र सिंह और मथुरा गेट के थाना प्रभारी को सौंपा है।

पिता विश्वेंद्र ने दिया यह जवाब

राजस्थान के पूर्व मंत्री और डिग कुम्हेर विधायक विश्वेंद्र सिंह ने बेटे द्वारा पुलिस में शिकायत दर्ज कराने के पूरे मामले पर जवाब दिया। उन्होंने अपने जवाब में कहा, “मेरी मेरे पिता के सामने सर या आंख उठाकर सीधी बात करने की भी हिम्मत नहीं होती थी।

गिरिराजजी महाराज की देन से मैं भरतपुर के राज खानदान की 14 पीढ़ियों की संस्कार और स्वभाव को लेकर बैठा हूं। मैं अपने परिवार के खिलाफ में कुछ नहीं बोल सकता हूं।”

गहलोत – पायलट के सपोर्ट के मुद्दे पर शुरू हुई अनबन

राजस्थान कांग्रेस पार्टी में 6 महीने पहले हुए political crisis के दौरान बाप – बेटे में अनबन शुरू हुई। असल में अनिरुद्ध खुलकर सचिन पायलट के समर्थन में खड़े हो गए थे। मगर पिता अपना समर्थन बैलेंस करके गहलोत और पायलट को 50-50% दे रहे थे। इसी से दोनों में तनाव शुरू हुई।

इस बीच, लगभग तीन महीने पहले अनिरुद्ध ने ट्वीट करके अपने पिता पर कई सारे गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि, “वह मेरी मां के प्रति हिंसक हो गए हैं, उन्होंने काफी कर्ज ले लिया है और वह शराब भी अधिक पीने लगे हैं।”

About Author

Ankit Swetav