मंगलवार को, Google ने डूडल बनाकर बेल्जियम के खगोलविद “जॉर्जेस लेमेत्रे” की 124 वीं जयंती मनाई। लेमेत्रे को बिग बैंग थ्योरी का श्रेय दिया जाता है, जिसके अनुसार ब्रह्मांड एक परमाणु से उत्पन्न हुआ, जोकि एक लौकिक अंडे कि तरह था। वह इस सिद्धांत को मानने वाले पहले व्यक्ति थे, जो मानते थे “कि ब्रह्मांड बढ़ रहा है”।

लेमेत्रे 1894 में पैदा हुए थे, उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान बेल्जियम सेना के लिए भी अपनी सेवाएँ दीं थी। इसके बाद वह भौतिकी और गणित का अध्ययन करने लगे,इसी दौरान उन्होंने पादरी बनने का प्रशिक्षण भी लिया। उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, हार्वर्ड और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी समेत दुनिया के कुछ सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में भौतिकी और खगोल विज्ञान का अध्ययन किया।

Image result for Georges Lemaître

1927 में, उन्होंने एक खोज पत्र (रिसर्च पेपर) प्रकाशित किया, जो सामान्य सापेक्षता के सिद्धांत से लिया गया था. उस पत्र में उन्होंने कहा था “कि ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है”। इस सिद्धांत को दो साल बाद एडविन हबल द्वारा प्रमाणित किया गया था, जिसके बाद इसे “हबल के नियम” के रूप में जाना जाने लगा।

अल्बर्ट आइंस्टीन ने शुरुआत में लेमेत्र के सिद्धांत को खारिज कर दिया था, लेकिन बाद में उन्होंने अपना मन बदल दिया। हबल ने बिग बैंग के सिद्धांत पर अनुसंधान को बढ़ावा दिया, और इसने विज्ञान की एक नई शाखा को जन्म दिया दिया जिसे “सापेक्ष ब्रह्मांड विज्ञान” के रूप में जाना जाता है।

Image result for Georges Lemaître

1934 में, लेमेत्रे को बेल्जियम का सर्वोच्च वैज्ञानिक परुस्कार “फ्रेंक्की पुरस्कार” से सम्मानित किया गया. 1953 में, उन्हें रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी द्वारा “एडिंगटन पदक” से सम्मानित किया गया। ब्रह्मांडीय माइक्रोवेव पृष्ठभूमि विकिरण (cosmic microwave background radiation ) की खोज के बारे में जानने के कुछ ही समय बाद 1966 में उनकी मृत्यु हो गई।

गूगल के द्वारा बनाये गए डूडल में लेमेत्रे के द्वारा दिए गए ब्रम्हांड के विस्तार के सिद्धांत को चित्रित किया गया है.

Image result for Georges Lemaître