कर्नाटक

पिता जेडीएस से रह चुके हैं CM, अब BJP बना रही है बेटे को मुख्यमंत्री

पिता जेडीएस से रह चुके हैं CM, अब BJP बना रही है बेटे को मुख्यमंत्री
  • बसवराज ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है साथ ही उन्हें कृषि की अच्छी जानकारी है,जिसके चलते उन्हें कर्नाटक के सिंचाई मामलों का जानकार कहा जाता है।
  • कर्नाटक राज्य में कई सिंचाई प्रोजेक्ट बोम्मई ने शुरू किए हैं।बोम्मई में शैक्षणिक योग्यता और प्रशासनिक क्षमताएं मौजूद हैं।

बीते सोमवार(26 अगस्त) बी. एस. येदयुरप्पा के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद अब बसवराज बोम्मई कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री होंगे। सोमवार को विधायक दल की बैठक में जहां येदियुरप्पा ने अपना इस्तीफा दिया वहीं पद के लिए बोम्मई के नाम का सुझाव भी दिया, जिसके बाद पार्टी और शीर्ष नेताओ की मंजूरी और सहमति के साथ मंगलवार को बसवराज बोम्मई ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। बोम्मई के सीएम बनने के पीछे का कारण उनका येदयुरप्पा का करीबी होना माना जा रहा है।

जनता दल (यूनाइटिड) से की थी राजनीति की शुरुआत

बोम्मई भले ही भारतीय जतना पार्टी (bjp) से कर्नाटक के सीएम बने हों, लेकिन अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत बोम्मई ने जनता दल यूनाइटिड से की थी। 2008 में येदयुरप्पा वो शख्स थे जिनकी वजह से बोम्मई बीजेपी में शामिल हुए, तब से बोम्मई उनके सबसे करीबी नेता माने जाते हैं, इतना ही नहीं बोम्मई को येदयुरप्पा की परछाईं भी कहा जाता है। हालांकि 2012 और 2014 कि येदयुरप्पा सरकार में बोम्मई कर्नाटक के गृह मंत्री, कानून और संसदीय कार्य और विधान मंत्री का पद संभाल चुके हैं।

लिंगायत समुदाय से है जुड़ाव

कर्नाटक के नए सीएम बसवराज बोम्मई और पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा दोनों ही कर्नाटक के वीरशैव-लिंगायत समुदाय से आते हैं, इतना ही नहीं लिंगायत समुदाय की हिस्सेदारी राज्य में 17 फीसदी है, वहीं 224 विधानसभा सीटों में से 100 सीटों पर लिंगायत समुदाय का प्रभाव माना जाता है। येदियुरप्पा के इस्तीफे की बात के बाद से ये समुदाय नाराज़ दिख रहा था और bjp का वोटबैंक खतरे में लग रहा था। आपसी सहमति के बाद बोम्मई के नाम को सीएम पद के लिए स्वीकार कर दोतरफा निशाना साधा गया है।

बसवराज बोम्मई के पिता भी रह चुके हैं सीएम

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक साल 1988 से 1989 में बोम्मई के पिता S.R. बोम्मई जनता दल की सरकार में कर्नाटक के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। जिन्हें मुख्यमंत्री बनाने का श्रेय रामकृष्ण हेगड़े को जाता है। वहीं दी इंडियन एक्सप्रेस से बात चीत के दौरान बसवराज बोम्मई की पत्नी चेन्नमा ने कहा “सीएम बनने के बाद बोम्मई वो काम करें जिसमे सभी की भलाई हो, मुख्यमंत्री पद को संभालने के दौरान पिछली सरकार में मिला अनुभव और पिता से मिला अनुभव उनके काम आएगा।”

बोम्मई के बेटे ‘भारत बोम्मई’ ने पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को आभार व्यक्त करते हुए पिता के मुख्यमंत्री बनने पर खुशी जताई, कहा “नहीं पता था कि पिता के सीएम बनने की खबर मीडिया से मिलेगी।”

About Author

Sushma Tomar