Vijay Shanker Singh

More

हरिद्वार धर्म संसद के बाद Genocide Watch ने जारी की ये चेतावनी

  • January 20, 2022

हरिद्वार धर्म संसद में घृणावादी और भड़काऊ बयान देने वाले यति नरसिंहानंद को उत्तराखंड पुलिस से गिरफ्तार कर लिया है। पर यह गिरफ्तारी इस घृणासभा मे...

More

क्या यति नरसिंहानंद के ख़िलाफ़ अदालत की अवमानना की कार्यवाही होगी ?

  • January 19, 2022

हरिद्वार धर्म संसद को लेकर, देशभर में आलोचना और इसके आयोजकों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग दिन प्रतिदिन ज़ोर पकड़ रही है। पुलिस ने मुख्य...

More

सुधा भारद्वाज मामले में सुप्रीम कोर्ट ने NIA की याचिका क्यों ख़ारिज की ?

  • December 8, 2021

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता, सुधा भारद्वाज को भीमा...

More

दिन ब दिन विवादित हो रहा है “मुंबई क्रूज़ ड्रग केस”

  • October 28, 2021

अब इस हाई प्रोफाइल मामले में जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो  के अधिकारी समीर वानखेड़े ने खुद के लिए कानूनी सुरक्षा की मांग की है।...

More

एक स्वतंत्र एक्सपर्ट कमेटी करेगी पेगासस जासूसी की जांच

  • October 27, 2021

सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार को पेगासस स्पाइवेयर का उपयोग कर राजनेताओं, पत्रकारों, कार्यकर्ताओं आदि की व्यापक और लक्षित निगरानी के आरोपों की जांच के लिए...

More

मौलाना आज़ाद के विचार और उनका लेखन

  • October 13, 2021

सबसे कठिन होता है धार्मिक कट्टरता और धर्मान्धता से उबल रहे समाज में, सेक्युलर सोच या सर्वधर्म समभाव के, सार्वभौम और सनातन मूल्यों को बचाये रखना,...

More

‘चरखे से आजादी नहीं मिली’ कहने वाले, यह जरूर पढ़ लें

  • October 2, 2021

बीसवीं सदी के इतिहास पर जब भी चर्चा छिड़ेगी, महात्मा गांधी की स्थिति उस कालखंड की सबसे महत्वपूर्ण शख्सियत के रूप में मानी जायेगी। उनका योगदान...

More

जो झूठ पहले छिप कर बोला जाता था, अब खुले आम बोला जा रहा है

  • September 22, 2021

2014 के बाद देश की राजनीति में सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तन यह आया है कि झूठ या फर्जीवाड़ा, जो पहले लुकछिप पर कुछ अपराध बोध के साथ...

More

आयकर व ईडी के छापों और सरकार की आलोचना में क्या कोई अन्तर्सम्बन्ध है ?

  • September 22, 2021

आयकर और ईडी के छापे 2014 के पहले भी पड़ते थे और अब भी पड़ रहे हैं तथा आगे भी पड़ते रहेंगे। पर यह छापे अधिकतर...