भारत में कोरोना संक्रमण पर जर्मन अनुसंधानकर्ताओं की ये रिपोर्ट चौंकाने वाली है

भारत में कोरोना संक्रमण पर जर्मन अनुसंधानकर्ताओं की ये रिपोर्ट चौंकाने वाली है

हिन्दी अखबारों में प्रमुख, दैनिक जागरण ने आज बताया है, और “धीमी हुई कोरोना फैलने की रफ्तार” (लीड)। इस खबर का उपशीर्षक है, “सुधरते हालात : देश में 6.2 से बढ़कर अब 7.5 दिन में हो रही है मरीजों की संख्या दोगुनी”। दूसरी ओर, अंग्रेजी अखबार, द टेलीग्राफ ने पहले पन्ने पर एक खबर छापी […]

Read More
 क्या कोरोना से लड़ाई में सरकार द्वारा उठाए गए क़दम काफ़ी हैं ?

क्या कोरोना से लड़ाई में सरकार द्वारा उठाए गए क़दम काफ़ी हैं ?

कोरोना को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने आपके हित में कुछ नियम बनाए हैं। उन्हें पढ़िए और कल्पना कीजिए कि ये नियम कितने मुश्किल हैं और क्या इनका पालन किया जा सकता है। आप जानते हैं कि लाखों गरीबों को अचानक लॉक डाउन के कारण छोटे-छोटे कमरों में बिना भोजन (चार बार स्वास्थ्यकर […]

Read More
 सरकार के इस भेदभाव का क्या किया जाए ?

सरकार के इस भेदभाव का क्या किया जाए ?

लॉक डाउन बढ़ाने की घोषणा के बाद मुंबई के ब्रांद्रा स्टेशन पर कल अचानक भीड़ लगने के बाद आज कुछ पुरानी खबरें सामने आ रही हैं। इन खबरों के शीर्षक हैं हरिद्वार में फंसे थे गुजरात के 1800 लोग, रूपाणी के कहने पर उन्हें लॉकडाउन के बीच बसों से घर पहुंचाया गया (दैनिक भास्कर, 03 […]

Read More
 वीडियो क्लिप में उत्पीड़कों को देखा जा सकता है, पर केस ‘अज्ञात लोगों’ के खिलाफ

वीडियो क्लिप में उत्पीड़कों को देखा जा सकता है, पर केस ‘अज्ञात लोगों’ के खिलाफ

चेहरा पहचानने वाली अमित शाह की टेक्नालॉजी को पछाड़ दे रही है वर्दी वीडियो क्लिप में उत्पीड़कों को देखा जा सकता है पर केस ‘अज्ञात लोगों’ के खिलाफ है। आज द टेलीग्राफ में प्रकाशित इमरान अहमद सिद्दीक की खबर – 23 साल के फैजान की हत्या के लिए पुलिस ने ‘अज्ञात लोगों’के खिलाफ मामला दर्ज […]

Read More
 ज़ी / एस्सेल समूह की 14 कंपनियां येस बैंक के लिए 8400 करोड़ रुपए की कर्जदार हैं

ज़ी / एस्सेल समूह की 14 कंपनियां येस बैंक के लिए 8400 करोड़ रुपए की कर्जदार हैं

मुझे लगता है कि किसी वित्तीय पत्रकार को ज़ी/ एस्सेल समूह से संबंधित मामलों पर शोध करना चाहिए। बैंकों, एलआईसी और म्यूचुअल फंड के मामलों में इस समूह की स्थिति और इसके लिए इनकी उपलब्धता दोनों दिलचस्प है। इसके बावजूद इस मामले में दैवीय हस्तक्षेप दिखाई देता है जिसकी वजह से ज़ी / एस्सेल और […]

Read More
 पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद अंकित शर्मा को 400 चाकू मारने की ख़बर झूठी निकली ?

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद अंकित शर्मा को 400 चाकू मारने की ख़बर झूठी निकली ?

दिल्ली दंगे की खबरों में आपने आईबी अफसर (सुधार यह भी है कि वे अफसर नहीं, कर्मचारी थे) अंकित शर्मा की हत्या की खबर जरूर सुनी होगी। आपने यह भी सुना होगा कि उनकी हत्या बहुत ही निर्मम या क्रूर तरीके से की गई थी। अगर बात इतनी ही होती तो मैं यह पोस्ट नहीं […]

Read More
 दिल्ली – ईवीएम से गिनती में वोटों का अंतर क्यों आया?

दिल्ली – ईवीएम से गिनती में वोटों का अंतर क्यों आया?

ईवीएम से शिकायतें कम नहीं हो रही हैं। चुनाव आयोग ने ईवीएम हैक कर दिखाने की जो चुनौती दी थी उसकी शर्तें ऐसी नहीं थीं कि कोई यह सब करने जाए। इसके अलावा, चुनाव आयोग का पिछला रिकार्ड भी ऐसा नहीं है कि उसपर भरोसा किया जाए। इसलिए उस चुनौती या मौके को मैं पूरा […]

Read More
 शाहीनबाग शूटर के परिवार ने आप से संबंध होने से इंकार  किया

शाहीनबाग शूटर के परिवार ने आप से संबंध होने से इंकार किया

दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को कहा कि पिछले सप्ताह दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल पर गोलियां चलाने वाला कपिल गुर्जर आम आदमी पार्टी का सदस्य है। इसके बाद से भक्त लोग परेशान हैं कि विरोधियों ने इसपर कुछ नहीं लिखा। भक्तों को पता नहीं चला, उनके भगवान और प्रचार तंत्र ने नहीं बताया […]

Read More
 सीएए को गांधी के नाम पर जायज ठहराने की कोशिश

सीएए को गांधी के नाम पर जायज ठहराने की कोशिश

आज (1 फ़रवरी) के टेलीग्राफ में मुख्य खबर का शीर्षक है, गांधी भक्तों की सरकार। उपशीर्षक है, केंद्र ने कहा : सीएए बापू की इच्छा का सम्मान करता है। इसके बाद अखबार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर तथा भाजपा सांसद प्रवेश सिंह वर्मा (दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा के सुपुत्र […]

Read More
 मीडिया – जम्मू कश्मीर में नौकरी का विज्ञापन, खबर और विज्ञापन का वापस लिया जाना

मीडिया – जम्मू कश्मीर में नौकरी का विज्ञापन, खबर और विज्ञापन का वापस लिया जाना

अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट ने वैकेंसी निकाली। कल के अखबारों में यह खबर प्रमुखता से छपी थी। दैनिक भास्कर में यह पहले पन्ने पर थी। दूसरे अखबारों में भी प्रमुखता से छपी थी। आज टेलीग्राफ में खबर है कि इस विज्ञापन को वापस ले लिया गया है। आज के भास्कर में विज्ञापन […]

Read More