स्मृति- जब रामायण केंद्रित अंताक्षरी में एक मुस्लिम युवक ने पढ़ा श्लोक

स्मृति- जब रामायण केंद्रित अंताक्षरी में एक मुस्लिम युवक ने पढ़ा श्लोक

मैं मुस्कराया और उनसे कहा यही तो हमारी सांझी संस्कृति है जो कोई भी न तो हमें अलग कर सकता और न ही छीन सकता है। गंगा यमुना के संगम की तरह हम एक दूसरे में मिल महसूसते बहते जाते। इसी से शायद गंगा यमुनी तहज़ीब की बात होती है

Read More
 स्मृति : भारत छोड़ो आंदोलन (9 अगस्त 1942)

स्मृति : भारत छोड़ो आंदोलन (9 अगस्त 1942)

आज नौ अगस्त … भारत छोडो आन्दोलन की स्मृति साथ ले आया है. यह वही आन्दोलन था जिसने भारत की स्वतंत्रता सुनिश्चित कर दी. चूँकि मैं बलिया से हूँ और इस आन्दोलन ने बलिया को पन्द्रह दिन तक अंग्रेज प्रशासन से पूर्ण आज़ादी दिला दी. बाद में अंग्रेज सेना ने फिर से लौटकर कब्ज़ा किया। […]

Read More
 डरता हूँ कि कहीं इस डर से लोग सच बोलना न बंद कर दें

डरता हूँ कि कहीं इस डर से लोग सच बोलना न बंद कर दें

एक साया सा फ़ैल गया है हर सिम्त दिल के भीतर / और वहीं बैठ गया है चुपचाप आजकल एक डर मन करता है उस डर को उलीच दूँ यहां पर डर को उलीचना और भी ज्यादा डर से भर जाना है. सामने पार्क में खेलता बच्चा जोर से हंसता है और मैं उसकी हंसी […]

Read More