December 3, 2021
इतिहास के पन्नो से

जब लोगों ने जर्मनी के बंटवारे की दीवार ढहा दी

जब लोगों ने जर्मनी के बंटवारे की दीवार ढहा दी

पूर्व जर्मनी की स्थापना 1949 में हुई और 1990 में इसका विलय हो गया।

बर्लिन की दीवार का गिरना और जर्मनी का एकीकरण

पूर्व एवं पश्चिम जर्मनी का विलय 3 अक्टूबर 1990 को हुआ। विलय होने से पहले ही पूर्व और पश्चिम जर्मनी की जनता ने बर्लिन की दीवार को गिरा दिया था।

 

यह दीवार 1961 में तात्कालिक पूर्व जर्मनी की की कम्युनिस्ट सरकार ने बनवाई थी। पूर्व जर्मनी की सरकार यह नहीं चाहती थी की पश्चिमी जर्मनी की चमक-धमक पूर्व जर्मनी पर पड़े।
9 नवंबर 1989 को पूर्वी जर्मनी की जनता ने बर्लिन की दीवार को अपने धक्के से ही गिरा दिया।

इसके बाद तो मानो हर जगह अफरा-तफरी मच गई। पूर्वी जर्मनी से लोग पश्चिमी जर्मनी की ओर भागने लगे। इस तरह चार दशक पहले हुआ, जर्मनी का विभाजन अब विलय में बदल गया था।

आखिर क्यों लोग पूर्व जर्मनी से पश्चिमी जर्मनी की ओर जाना चाहते थे

पूर्वी जर्मनी की कम्युनिस्ट सरकार अपने लोगों की आकांक्षाओं को समझने में नाकामयाब रही। लोगों को बड़ी कार, टेलीविजन और चमक-दमक वाले कपड़े चाहिए थे।

पूर्वी जर्मनी की सरकार पर इन सवालों का कोई जवाब नहीं था। पार्टी का नेतृत्व उस समय बूढ़ा हो गया था। पार्टी में काम करने वाले नौजवान भी पार्टी के कामों से खुश नहीं थे परंतु कुछ बोल नहीं पा रहे थे।

विलय के बाद पूर्वी जर्मनी में AFD पार्टी का दबदबा

बर्लिन की दीवार गिरने के बाद पूर्वी जर्मनी को भंग कर दिया गया और उसकी जगह अब नए पांच राज्य अस्तित्व में आए।

जब भी यहां चुनाव होते है, तो जर्मन जाति की शुद्धता को बनाए रखने पर जोर देने वाली पार्टी AFD को मिलने वाला अनुपात बढ़ता ही जा रहा है।

बर्लिन की दीवार से जुड़े कुछ अहम बाते

  • बर्लिन की दीवार का निर्माण 13 अगस्त 1961 को शुरू हुआ और 9 नवंबर 1989 के बाद इसे तोड़ दिया गया।
  • इस दीवार को बनाने का आदेश सोवियत संघ के नेता निकिता ख्रुश्चेव न दिया था।
  • 1980 में जब सोवियत संघ कमजोर होने लगा। उसी समय दीवार के नियमों में भी सख्ती कम कर दी गई।
  • लोग सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। इसी बीच घोषणा की गई कि दीवार से रोकथाम हटा दी गई।
  • इस घोषणा के बाद दोनों तरफ के लोगों ने दीवार तोड़ने शुरू करें और एक दूसरे से मिलकर गले लगने लगे।
  • इस दीवार का टूटना इतनी बड़ी घटना थी कि लोग अपने साथ इस दीवार के टुकड़े, यादगार के लिए घर ले गए थे।
  • 3 अक्टूबर 1990 को आधिकारिक तौर से जर्मनी एक हो गया था।

आखिर क्यों गिराई गई बर्लिन की दीवार

द्वितीय विश्व युद्ध समाप्त होने के बाद यूरोप दो विचारधाराओं में बढ़ चुका है जहां एक और पूंजीवादी विचारधारा तो दूसरी और साम्यवादी विचारधारा थी। एक और जहां पश्चिमी जर्मनी में अमेरिका फ्रांस और ब्रिटेन का क़ब्ज़ा था, वहीं पूर्वी जर्मनी में सोवियत संघ का कब्जा था।

पूर्वी जर्मनी में उस समय हालात कुछ सही नहीं थे। इसीलिए बड़ी संख्या में लोग पूर्वी जर्मनी से पश्चिमी जर्मनी की ओर पलायन कर रहे थे। पश्चिमी जर्मनी में लोकतंत्र था जो कि पूर्वी जर्मनी के लोगों को अपनी ओर खींच रहा था।

इसी पलायन को रोकने के लिए सोवियत संघ पूर्वी और पश्चिमी जर्मनी के बीच में एक कंक्रीट की दीवार खड़ी कर दी। इसी के साथ ही सीमा पर कई हजार जवानों को भी तैनात कर दिया। सरकार ने आदेश दिया कि जो भी दीवार को पार करने की कोशिश करें। उसे गोली मार दी जाए।

About Author

Mukul Bhardwaj