January 22, 2022
खेल

टाटा के अच्छे दिन आ रहे है वापस 

टाटा के अच्छे दिन आ रहे है वापस 

 

  • आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सर बनने वाली है टाटा कंपनी
  • 2022 तक ही था विवो के साथ करार

टाटा ग्रुप ऑफ कंपनीज (TATA Group of Companies) पिछले 100 साल से भी ज्यादा समय से एक बड़ी विरासत बनी हुई है। टाटा (TATA) का कारोबार लगभग पूरी दुनिया में फैला हुआ है। यहां तक की टाटा मोटर्स (TATA Motors) ने जैगुआर लैंड रोवर (Jaguar Land Rover) कंपनी का स्वामित्व भी अपना बना रखा है।

2021 में एयर इंडिया (Air India) खरीदने के बाद अब 2022 में टाटा आईपीएल (IPL) की टाइटल स्पॉन्सर (Title Sponsor) बनने की तैयारी में है। टाटा यह कॉन्ट्रैक्ट अगले दो साल के लिए लेगी। इससे पहले प्रसिद्ध मोबाइल कंपनी विवो (Vivo) आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सर थी। टाटा के स्पॉन्सर बनने से बीसीसीआई (BCCI) को लगभग 130 करोड़ रुपए का प्रॉफिट होगा।

अब “विवो आईपीएल” होगा “टाटा आईपीएल”

विवो का आईपीएल टाइटल स्पॉन्सरशिप करार 2018 से 2022 तक का था। इसके खत्म होने के बाद अब यह करार टाटा ग्रुप के साथ किया जाएगा। इसका निर्णय आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल ने मंगलवार को आयोजित हुए बैठक में किया। आईपीएल के अध्यक्ष बृजेश पटेल (Brijesh Patel) ने इसकी पुष्टि की।

टाटा ग्रुप इस प्रायोजन के लिए कुल 670 करोड़ (310 करोड़ रुपए प्रति वर्ष) देगा।  विवो ने 2018 से 2021 तक के प्रायोजन के लिए 2200 करोड़ रुपए दिए थे। 2020 में चीन (China) से बढ़ते मतभेद के कारण कंपनी ने उस साल टाइटल स्पॉन्सर नहीं किया था। 2020 में आईपीएल का टाइटल स्पॉन्सर ड्रीम 11 (Dream 11) था।

आईपीएल के टाइटल स्पॉन्सर्स का इतिहास

बीसीसीआई (BCCI) ने 2008 में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की स्थापना की थी। इसके लिए ज़ी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइज (Zee Entertainment Enterprises) ने बड़ी रकम दी थी। उस वक्त डीएलएफ (DLF), जो एक रीयल इस्टेट कंपनी है, आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सर थी। इसने 2008 से 2012 तक स्पॉन्सर किया था। इसके बाद पेप्सी (Pepsi) कंपनी ने 2013 से 2015 तक 79.4 करोड़ रुपए में टाइटल स्पॉन्सर किया। फिर विवो ने 2016 से 2017 के लिए करार किया। इस करार के सफल रहने के कारण विवो को दोबारा टाइटल स्पॉन्सर बनाया गया। इस बार 2018 से 2022 तक के लिए करार हुआ था। यह करार कुल 2200 करोड़ रुपए का था।

2020 में विवो ने एक साल का ब्रेक लिया और ड्रीम 11 ने टाइटल स्पॉन्सर किया था। फिर 2021 में विवो ने अपने करार के अनुसार स्पॉन्सर किया। अब 2022 और 2023 के लिए बीसीसीआई ने टाटा को स्पॉन्सरशिप देने का फैसला किया है।

टाटा ग्रुप की दमदार वापसी 

टाटा ग्रुप ऑफ कंपनीज का इतिहास 100 साल से भी ज्यादा पुराना है। भारत की अपनी कंपनी होते हुए भी टाटा का बोलबाला पूरी अंतराष्ट्रीय मार्केट में है। इसके शेयर्स, ऑटोमोबाइल, उद्योग, आदि काफी ज्यादा प्रसिद्ध है। मगर बीच में कुछ समय के लिए यह कंपनी थोड़ी डाउन होती नजर आ रही थी। लोग एक प्रकार से कंपनी को भूल गए थे।

मगर हाल के समय में टाटा ग्रुप ने अपनी खोई हुई साख वापस हासिल करने के लिए काफी कुछ किया है। टाटा मोटर्स ने जैगुआर लैंड रोवर का स्वामित्व 2008 में खरीदा था। इसके बाद सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (Central Vista Project) की जिम्मेदारी भी टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड (TATA Projects Ltd.) को दी गई। 25 अक्टूबर 2021 को 18,000 करोड़ रूपए में टाटा ने एयर इंडिया को वापस अपने नाम कर लिया। और अब आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप भी टाटा ग्रुप को दी जाएगी।

About Author

Ankit Swetav