एक बांगला कविता जिसका हिंदी अर्थ है – "भात दे हरामज़ादे"

एक बांगला कविता जिसका हिंदी अर्थ है – "भात दे हरामज़ादे"

बांग्लादेश के कवि रफीक़ आज़ाद की एक कविता का शीर्षक है ‘भात दे हरामज़ादे’. रफीक़ की मूल बांग्ला कविता का हिंदी अनुवाद 1990 में ज्ञानरंजन की पत्रिका ‘पहल’ के 39वें अंक में प्रकाशित हुआ था. ‘पहल’ के उस खास अंक में पैंतालीस बाँग्लादेशीय कवियों की 103 कविताओं के साथ वहाँ के साहित्यकार बदरुद्दीन उमर के […]

Read More