कश्मीरी ब्राम्हण राज कौल से पंडित नेहरू तक ?

कश्मीरी ब्राम्हण राज कौल से पंडित नेहरू तक ?

मोतीलाल नेहरू का परिवार मूलतः कश्मीर घाटी से था। अठारहवीं सदी के आरम्भ में पंडित राज कौल ने अपनी मेधा से मुग़ल बादशाह फरुखसियार का ध्यान आकर्षित किया और वह उन्हें दिल्ली ले आये जहाँ कुछ गाँव जागीर के रूप में मिले, हालाँकि फरुखसियार की हत्या के बाद जागीर का अधिकार घटता गया, लेकिन राज […]

Read More