इतिहास में दुष्प्रचार और झूठ का तड़का

इतिहास में दुष्प्रचार और झूठ का तड़का

इतिहास के साथ दुष्प्रचार और गलतबयानी एक आम बात रही है। सत्तारूढ़ शासक अक्सर अपने विकृत और विद्रूप अतीत को छुपाना चाहते है और अपने बेहतर चेहरे को जनता के सामने लाना चाहते है। इतिहास में वे बेहतर शासक और व्यक्ति के रूप मे याद किये जांय, यह उन सबकी दिली इच्छा होती है। संघ […]

Read More
 सांप्रदायिकता के प्रबल विरोधी थे “नेताजी सुभाष चंद्र बोस”

सांप्रदायिकता के प्रबल विरोधी थे “नेताजी सुभाष चंद्र बोस”

23 जनवरी का दिन नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती का दिन होता है। सुभाष एक विलक्षण प्रतिभासंपन्न और अपनी तरह के अनोखे स्वाधीनता संग्राम सेनानी थे। सांप्रदायिकता और राष्ट्रवाद के बारे में आज,  उनका एक प्रसिद्ध उद्धरण पढें हिंदू महासभा भारतीय राष्ट्रवाद का यह शत्रु तत्व है और इसे हराने की हमारी चुनौती है। […]

Read More
 विदेश में रहकर देश की आज़ादी के लिए लड़ते रहे "रास बिहारी बोस"

विदेश में रहकर देश की आज़ादी के लिए लड़ते रहे "रास बिहारी बोस"

प्रसिद्ध भारतीय स्वतंत्रता सेनानी रासबिहारी बोस की 25 मई को 132वीं जयंती है.‘‘एशिया एशियावासियों का है’’ का नारा बुलन्द करने वाले रास बिहारी बोस उन गिने-चुने क्रांतिकारियों में हैं, जिन्होंने न केवल देश में बल्कि विदेश में भी ब्रिटिश शासन के खिलाफ सशस्त्र क्रांति का मार्ग अपनाया तथा सोए हुए भारतीय राष्ट्रवाद को जगाया था.दिल्ली […]

Read More